गंगा नदी शराब तस्करों के लिए सुरक्षित पनाहगार
गंगा नदी शराब तस्करों के लिए सुरक्षित पनाहगार
बिहार

गंगा नदी शराब तस्करों के लिए सुरक्षित पनाहगार

news

बक्सर 18 अक्टूबर (हि ,स )। चुनावी दौर में गंगा नदी शराब तस्करों के लिए सुरक्षित पनाहगार साबित हो रहा है |पुलिस के लाख सतर्क होने के बावजूद कई मौके पर सफल तो कभी पकड़े भी जाते है तस्कर |कुछ ऐसा ही वाकया शनिवार मध्यरात्री के बाद मुफस्सिल थाना के मिश्रवलिया गाँव के समीप गंगा घाट पर देखने को मिला जब उत्पाद विभाग और स्थानीय मुफस्सिल थाने की पुलिस ने गुप्त सूचना पर कारवाई के तहत एक शराब भरी नाव को जब्त किया | इस दौरान नाविक शराब तस्कर को गिरफ्तार करते हुए चौबीस पेटी शराब जब्त कर पुलिस तस्कर से पूछताछ कर रही है। भगौलिक परिसीमन कुछ इस तरह से जटिल है कि यूपी से लगी गंगा के 42 किलोमीटर की सीमावर्ती ईलाके की सघन व् सम्पूर्ण चौकसी पुलिस के समक्ष एक कठिन चुनौती है |जिला प्रशासन जारी बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान बलिया और गाजीपुर जनपद (यूपी )के जिला प्रशासन के साथ बैठको को कर शराब तस्करों पर नकेल कसने की गुजारिश भी कर चुकी है |यूपी प्रशासन के ओर से बिहार (बक्सर )जिला प्रशासन को भरोसा भी दिया गया था कि इस दिशा में हम भरपूर सहयोग करेंगे |बावजूद ऐसा कुछ भी नही होरहा है |सबसे विकट स्थिति बक्सर के दियारा क्षेत्र की है |कई जगहों पर बिहार यूपी का सीमांकन के लिए महज 12 फिट सडको का सहारा लिया गया है जहा सडक के इसपार बिहार में पूर्ण शराब बंदी है तो महज बारह फीट के बाद यूपी अपने सीमा में शराबियो का स्वागत करते दिखता है |बिहार में शराब बंदी को लेकर बिहार सरकार द्वारा यूपी की सरकार से आग्रह भी किया जा चुका है कि बिहार से लगते सीमावर्ती क्षेत्र के तीन किलोमीटर के दायरे में ठेके पर शराब की दुकाने ना खोले |पर ऐसा बिलकुल नही हो रहा है | हिन्दुस्थान समाचार /अजय मिश्रा/चंदा-hindusthansamachar.in