गंगा नदी का जलस्तर बढ़ने से कटाव निरोधी कार्य हो रहा धराशायी
गंगा नदी का जलस्तर बढ़ने से कटाव निरोधी कार्य हो रहा धराशायी
बिहार

गंगा नदी का जलस्तर बढ़ने से कटाव निरोधी कार्य हो रहा धराशायी

news

कटिहार, 23 जुलाई (हि.स.)। कटिहार जिले के अमदाबाद प्रखंड अंतर्गत पारदियारा पंचायत से होकर गुजरने वाली गंगा नदी का जलस्तर बढ़ने से ग्रामीणों में अफरा—तफरी का माहौल है। यहां करोड़ों की लागत से कराया जा रहा कटाव निरोधी कार्य भी धाराशायी होने लगा है। इस पंचायत के कई घरों सहित करीब तीन एकड़ जमीन कटाव से गंगा के गर्भ में विलीन हो गयी है। गंगा किनारे बसे दर्जनों परिवार भीषण कटाव की वजह से अपने घर—द्वार छोड़कर बांध या ऊंचे स्थान पर शरण ले रहे हैं। पारदियारा पंचायत के मुखिया प्रतिनिधि मो. मुंसाफ़िर आलम ने बताया कि दक्षिणी करीमुल्लापुर पंचायत के मेहरूटोला से खट्टी गांव के समीप तक करीब 14 करोड़ रुपए की लागत से बंबू पायलिग एवं गेबियन (जिओ बैग) डालकर कटाव निरोधक कार्य कराया जा रहा था, परंतु नदी का जलस्तर बढ़ने के साथ ही कटाव निरोधी कार्य कई जगह से धाराशायी होने लगा। साल दर साल गंगा नदी के कटाव का दंश झेल रहे लोगों के कटाव पर अंकुश लगने की उम्मीद भी धरी की धरी रह गई। उल्लेखनीय है कि मेहरूटोला से खट्टी गांव तक गंगा नदी से कटाव रोकने के लिए इससे पहले भी 2017 में करीब 67 करोड़ की लागत की राशि से बोल्डर पाइलिग का कार्य कराया गया था जो कटाव से गंगा में विलीन हो गया। हिन्दुस्थान समाचार/विनोद/हिमांशु शेखर/विभाकर-hindusthansamachar.in