खगड़िया में नाविकों की पकड़-धकड़ तेज, जब्त की रहीं नावें
खगड़िया में नाविकों की पकड़-धकड़ तेज, जब्त की रहीं नावें
बिहार

खगड़िया में नाविकों की पकड़-धकड़ तेज, जब्त की रहीं नावें

news

खगड़िया, 07 अगस्त (हि.स.)। खगड़िया जिले के मानसी प्रखंड अंतर्गत एकनियाँ घाट पर नाव चला रहे नाविकों की धरपकड़ तेज हो गई है। वहीं निर्धारित मापदंडों का पालन नहीं करने के कारण नाव को जब्त करने की भी कार्रवाई की जा रही है। शुक्रवार को भी मानसी में नाव जब्त की गई तथा नाविकों को गिरफ्तार करने की कार्रवाई की गई। बूढ़ी गंडक में हुए नाव हादसे के बाद भी मानसी मटिहानी घाट पर अवैध तरीके से नावों का परिचालन देखा गया। ना तो किसी नाव वाले के पास सरकारी परमिट था और ना ही सुरक्षा के दृष्टिकोण से कोई इंतजाम दिखा। नाव में क्षमता से अधिक लोगों को चढ़ाकर जान जोखिम में डालने वाले नाविक निर्भीक दिखते हैं। 6 अगस्त को देर शाम एकनिया घाट से दियारा जा रही नाव के टीकारामपुर के पास हुई दुर्घटना में नौ लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी। जिला प्रशासन के निर्देश पर मानसी सीओ द्वारा दुर्घटना वाले नाविक रंजीत यादव पर मानसी थाना में मामला तो दर्ज करा दिया गया लेकिन भविष्य में कोई ऐसी घटनाएं नहीं हो इसके लिए प्रशासन सजग नहीं हुआ है। सीओ अरुण कुमार सरोज ने बताया की नाव हादसे के बाद मानसी थाना में मामला दर्ज करवाया गया है। डीएम आलोक रंजन घोष ने बताया कि जिले के चौथा और अलौली अंचल में भी अवैध तरीके से सुरक्षा के मापदंडों की अवहेलना कर परिचालन करने वाले नाविकों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। लेकिन हकीकत यही है कि नाव पर सुरक्षा के दृष्टिकोण से किसी तरह का लाइफ जैकेट नहीं रहता है। क्षमता से अधिक यात्रियों को बिठाना नाव संचालकों के लिए रोजमर्रा की बात है। उल्लेखनीय है कि खगड़िया जिले के अलौली, चौथम, बेलदौर तथा मानसी अंचल में कई पंचायतों के लोगो के आवागमन का जरिया नाव ही है। फिलहाल जिले की 39 पंचायतों के 116 गांव बाढ़ प्रभावित हैं जहां रहने वाली एक लाख से अधिक की आबादी आवागमन के लिए नाव पर ही निर्भर कर रही है। आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से 27 सरकारी तथा 78 निजी नावों का संचालन किया जा रहा है। हिन्दुस्थान समाचार/अजिताभ/हिमांशु शेखर/विभाकर-hindusthansamachar.in