कोरोना संक्रमित मरीजों को बचाने के लिए 5 दिनों में 22 लोगों ने दिया   ब्लड प्लाज्मा
कोरोना संक्रमित मरीजों को बचाने के लिए 5 दिनों में 22 लोगों ने दिया ब्लड प्लाज्मा
बिहार

कोरोना संक्रमित मरीजों को बचाने के लिए 5 दिनों में 22 लोगों ने दिया ब्लड प्लाज्मा

news

कोरोना पीड़ित मरीजों को बचाने के लिए पटना प्रमंडल के जिलों में ऑपरेशन प्लाज्मा डोनेशन शुरू कोरोना से जंग जीते कोरोना योद्धा प्लाज्मा डोनेट करने को आ रहे आगे सभी प्लाज्मा डोनरों को जिला प्रशासन की ओर से किया जायेगा सम्मानित जिलों से हर दिन 4 प्लाज्मा डोनर को पटना एम्स में भेजने के लिए तैयार किया गया है रोस्टर। पटना 24 जुलाई (हि.स.)। पिछले पांच दिनों में 22 लोगों ने अपना ब्लड प्लाज्मा डोनेट किया है। इन कोरोना योद्धाओं द्वारा प्लाज्मा डोनेट किये जाने से कोरोना संक्रमण से गंभीर रूप से पीड़ित कई मरीजों की जान बचाई जा सकी है। शुक्रवार को प्रमंडलीय आयुक्त संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि पटना प्रमंडल के विभिन्न जिलों से प्लाज्मा डोनेट करने के लिए पिछले चार दिनों में 26 करोना योद्धा आगे आए हैं। इसमें से 4 लोग जांच के पैरामीटर में सही नहीं पाए गए, जिस कारण कुल 22 लोगों का प्लाज्मा सफलता पूर्वक डोनेट किया गया। जिन 22 लोगों ने अपना प्लाज्मा डोनेट किया है उनमें से बक्सर जिला से 3, भोजपुर से 4, नालंदा से 3, रोहतास से 4, पटना से 2 और कैमूर से 3 लोग हैं। कोरोना से जंग जीते युवा खुद आगे आ बढ़कर भी अपना ब्लड प्लाजमा डोनेट कर रहे हैं। प्रमंडलीय आयुक्त ने बताया कि प्लाज्मा डोनेट करने में युवाओं की भागीदारी अधिक है। जिस तरह कोरोना से जंग जीत कर लोग अपना प्लाज्मा देने के लिए निःस्वार्थ भाव से आगे आ रहे हैं यह काबिले तारीफ है। सभी कोरोना योद्धा बधाई के पात्र हैं। प्रमंडलीय आयुक्त द्वारा इस कार्य में लगे एम्स पटना की टीम को धन्यवाद दिया है। साथ ही वहां की डॉ. नेहा सिंह के योगदान की सराहना की। प्लाज्मा डोनेशन देने के लिए कोई भी व्यक्ति सीधे एम्स पटना में संपर्क स्थापित कर सकता है। अन्यथा अपने जिला पदाधिकारी कार्यालय को सूचना दे सकते हैं। बताते चलें कि पटना प्रमंडलीय आयुक्त संजय कुमार अग्रवाल की पहल पर प्लाज्मा डोनेशन ऑपरेशन की शुरुआत की गई है। प्लाज्मा डोनेट करने के बाद सभी लोगों को एम्स प्रशासन की ओर से थैंक यू कार्ड और ब्लड डोनर कार्ड दिये जा रहे हैं। साल भर के अंदर उनके परिवार के लिए कभी भी ब्लड की आवश्यकता होने पर एक यूनिट ब्लड दिया जा सकेगा। बहुत जल्द ही संबंधित जिला प्रशासन द्वारा प्लाज्मा डोनरों को कोरोना योद्धा का सम्मान दिया जाएगा। प्रमंडलीय आयुक्त के निर्देश पर पटना प्रमंडल के सभी जिलों में स्पेशल प्लाज्मा डोनर कोषांग का गठन किया गया है। सभी जिलों का रोस्टर निर्धारित किया गया है। प्लाज्मा डोनर को दूसरे जिला से पटना आने-जाने में किसी तरह की कोई परेशानियों का सामना नहीं करना पड़े इसके लिए जिला प्रशासन द्वारा विशेष वाहन की व्यवस्था कराई गई है। उन्हें घर से लाने और प्लाज्मा डोनेशन के बाद पुनः घर से पहुंचाने की व्यवस्था प्रशासन द्वारा की गई है। प्लाज्मा डोनेट करने के लिए यह है जरूरी प्लाज्मा डोनेट करने से शरीर में किसी प्रकार की कमजोरी नहीं आती तथा किसी भी प्रकार की हानि नहीं होती है। प्लाज्मा डोनेट करने के लिए डोनर का उम्र 18 से 65 वर्ष के बीच होनी चाहिए तथा कोरोना वायरस के संक्रमण से मुक्त हुए न्यूनतम 28 दिन बीत चुका हो। साथ ही विगत एक साल में किसी अन्य व्यक्ति से ब्लड नहीं लिया हो। वैसा व्यक्ति प्लाज्मा डोनेट कर सकता है। हिन्दुस्थान समाचार/राजीव/विभाकर-hindusthansamachar.in