कोरोना की वजह स्कूली बच्चों के अभिभावकों को मिल रहा सूखा राशन

कोरोना की वजह स्कूली बच्चों के अभिभावकों को  मिल रहा सूखा राशन
कोरोना की वजह स्कूली बच्चों के अभिभावकों को मिल रहा सूखा राशन

नवादा ,25 जुलाई (हि.स.)।राज्य सरकार के आदेश पर कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर जिले के सभी विद्यालय अगले आदेश तक बंद हैं और 31 जुलाई तक लॉक डाउन घोषित है। ऐसी स्थिति में विभिन्न सरकारी विद्यालयों में पढ़ने वाले बच्चों को भोजन के लिए परेशानी न हो,इसके लिए सरकार के निर्देश के बाद विभाग अब उन्हें कच्चा अनाज दे रहा है। नवादा जिले के सभी स्कूलों में अभिभावकों को अनाज दिया जा रहा है। शुरुआत सूदूरवर्ती कौआकोल प्रखण्ड से की गई है। एमडीएम प्रभारी शंकर कुमार ने बताया कि विभाग के निर्देश के बाद सभी विद्यालयों के प्रधान शिक्षक को सोशल डिस्टेंसिंग का अनिवार्य रुप से पालन करते हुए अपने - अपने विद्यालयों में बच्चों के अभिभावक को बुलाकर एमडीएम का चावल वितरण करने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने बताया कि शनिवार को प्रखण्ड के दुधपनियां,करमा,टीकोडीह,म.वि.खड़सारी,म.वि कौआकोल,बंदैली खुर्द, कन्या मध्य विद्यालय फरहेदा,छबैल,पचम्बा,करमाटांड़,कुतुबचक,खैरा,भुआलटाड़ बेसिक स्कूल, म.वि.दरावां,ईंटपकवा सहित लगभग 40 स्कूलों में चावल वितरण कार्य शुरू किया गया। शेष विद्यालयों में भी वितरण कार्य शीघ्र शुरू करने का निर्देश दे दिया गया है। उन्होंने बताया कि 3 मई 2020 से 31 जुलाई 2020 तक जोड़कर प्राथमिक स्कूल के वर्ग 1 से 5 तक के बच्चों को प्रति छात्र 80 दिनों का आठ किलो चावल जबकि 6 से 8 तक के बच्चों को प्रति छात्र 12 किलो की दर से एमडीएम का चावल दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इसके साथ ही भोजन पकाने की लागत व अन्य खर्चे भी जोड़कर बाद में डीबीटी के माध्यम से सरकार द्वारा विद्यार्थियों के खातों में डाली जाएगी। हिन्दुस्थान समाचार/डॉ सुमन/विभाकर-hindusthansamachar.in

अन्य खबरें

No stories found.