कृषि के विकास से ही आत्मनिर्भर बनेगा बिहारः डॉ. संजय जायसवाल
कृषि के विकास से ही आत्मनिर्भर बनेगा बिहारः डॉ. संजय जायसवाल
बिहार

कृषि के विकास से ही आत्मनिर्भर बनेगा बिहारः डॉ. संजय जायसवाल

news

पटना, 31 अगस्त (हि.स.)। भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा की कार्यसमिति को शुभकामनाएं देते हुए सोमवार को भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल ने कहा कि बिहार में खेती सबसे बड़ा मुद्दा है और केंद्र व राज्य की सरकारें इसके विकास के लिए प्रतिबद्ध हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और संवेदशनील सरकार ने किसानों को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए कृषि मंत्रालय को कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के रूप में बदल दिया है। उन्होंने कहा कि बिहार के तेज आर्थिक विकास के लिए, समृद्ध बिहार के लिए, सुदृढ़ और समुन्नत कृषि के लिए समर्थ और स्वाबलंबी किसान का होना अपरिहार्य है। इसीलिए ‘आत्मनिर्भर किसान-आत्मनिर्भर बिहार’ के नारे को अपना मिशन स्टेटमेंट भाजपा ने बनाया है। उन्होंने कहा, कृषि के साथ ही इसके आनुषंगिक क्षेत्रों यानी पशुपालन, मत्स्य, बकरी, मुर्गी से लेकर रेशम का कीड़ा और मधुमक्खी पालन तक हर छोटी-बड़ी समस्या को समझा है। आर्थिक पैकेज में 1.5 लाख करोड़ रुपये खेती के बुनियादी ढांचे को ठीक करने और कृषि से जुड़े संबंधित क्षेत्रों पर खर्च करेगी। एग्रीकल्चरल इंफ्रास्ट्रकचर के लिए 1 लाख करोड़ रुपये के प्रावधान पर प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि कोल्ड चेन और हार्वेस्ट मैनेजमेंट इंफ्रास्ट्रक्चर की कमी को दुरुस्त करने के लिए यह पैसा खर्च होगा। विकास एकाकी नहीं हो सकता, विकास समग्र होगा, सर्वस्पर्शी होगा, सर्वग्राह्य होगा, तभी विकास होगा। उन्होंने कहा, यह बताते हुए काफी आनंद की अनुभूति हो रही है कि जिस बीज से बाजार तक की अवधारणा का जन्म, इसी तरह की एक कार्यसमिति में हुआ था, आज उसे प्रधानमंत्री ने अपने संकल्प में शामिल किया है। उन्होंने सरकार को कृषि के विकास के लिए प्रतिबद्ध बताते हुए कहा कि खेती के विकास से ही प्रदेश का भी विकास संभव है। हिन्दुस्थान समाचार/राजीव/विभाकर-hindusthansamachar.in