उपयोगिता प्रमाणपत्र नहीं देने पर वेतन पर लगा रोक
उपयोगिता प्रमाणपत्र नहीं देने पर वेतन पर लगा रोक
बिहार

उपयोगिता प्रमाणपत्र नहीं देने पर वेतन पर लगा रोक

news

मधुबनी,17सितम्बर (हि.स)। जिला के दो प्लस टू उच्च विद्यालय के प्रधानाध्यापक के वेतन निकासी पर रोक लगाया गया है।बताया गया कि छात्रों के खेलकूद प्रतिभा को आगे बढ़ाने के लिए विद्यालयों को दिए जाने वाली राशि का सही सदुपयोग नहीं होने का आरोप इन दोनों हैडमास्टर पर लगा है। यहां पर विगत दो वित्तीय वर्ष की आवंटित राशि का उपयोगिता प्रमाणपत्र दोनों हैडमास्टर ने विभाग को नहीं भेजा है।फलतः विभागीय अधिकारियों ने दोनो एचएम का वेतन रोक दिया है।इससे पहले भी इन्हें विभाग से डीसी बिल उपस्थापन के लिए रिमाइण्डर भेजा गया था।विपत्र समायोजन नहीं होने के कारण राज्य सरकार से आवंटित राशि इस वर्ष विभाग को बांटने में परेशानी हो थी। फलतः सभी प्रदत्त राशि विभाग को वापस करना पड़ा है। वर्ष 2017-18 व 2018 -19 में पैसे की आवंटन जो विद्यालयों को दिया गया उसका उपयोगिता प्रमाण पत्र अद्यतन उपलब्ध नहीं कराया गया है। जिला शिक्षा पदाधिकारी स्तर से इसकी अन्वेषण की गई है। इसमें घोर अनियमितता पाया गया है ।उपाधीक्षक शारीरिक शिक्षा कार्यालय के आदेश में बताया गया है कि वाटसन उच्च विद्यालय मधुबनी को तीन लाख 47 हज़ार रूपया दिया गया था। लेकिन उस राशि की उपयोगिता प्रमाण पत्र विभाग को उपलब्ध नहीं करवाए। जबकि केजरीवाल उच्च विद्यालय झंझारपुर को आठ लाख 22 हजार रूपया प्रशिक्षण केंद्र के संचालनार्थ दिया गया था। यहां के दोनों प्रधानाध्यापक पैसे का उपयोगिता प्रमाण पत्र विभाग को नहीं दिया। परिणाम स्वरूप इस वित्तीय वर्ष का पैसा यहां पर उपलब्ध नहीं कराया जा सका है। हिन्दुस्थान समाचार/लंबोदर/चंदा-hindusthansamachar.in