उच्चतम जलस्तर को पार कर गई बूढ़ी गंडक, लेकिन स्थिति नियंत्रण में : डीएम
उच्चतम जलस्तर को पार कर गई बूढ़ी गंडक, लेकिन स्थिति नियंत्रण में : डीएम
बिहार

उच्चतम जलस्तर को पार कर गई बूढ़ी गंडक, लेकिन स्थिति नियंत्रण में : डीएम

news

बेगूसराय, 01 अगस्त (हि.स.)। बेगूसराय में बूढ़ी गंडक नदी के जलस्तर में वृद्धि तथा तटबंध (बांध) में कटाव एवं रिसाव से हालत गंभीर होती जा रही है। डीएम अरविंद कुमार वर्मा ने शनिवार की शाम को बताया कि बूढ़ी गंडक नदी 1987 में आई प्रलयंकारी बाढ़ के उच्चतम स्तर को पार कर गई है। गंडक उच्चतम स्तर 40.35 मीटर से 15 सेंटीमीटर ऊपर बह रही है। बांए तटबंध की स्थिति नाजुक है, लेकिन लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है, जल संसाधन विभाग के अधिकारी लगातार निरोधात्मक कार्रवाई कर रहे हैं तथा स्थिति नियंत्रण में है। जिला के सभी तटबंध की 24 घंटे निगरानी की जा रही है, जिला प्रशासन आपदा से लोगों को बचाने के लिए पूरी तरह से तत्पर है। सभी विभागीय अधिकारी सूचना मिलते ही रिसाव एवं कटाव रोकने को तत्पर हो जा रहे हैं। गंडक के बहाव गति में कुछ कमी आई है तथा अगले 24 घंटे में बहाव की गति और कम हो जाएगी। डीएम ने बताया कि बलान एवं बैंती भी उफान पर है, लेकिन स्थिति पूरी तरह से काबू में है, कुछ घरों में पानी गए हैं, जिन्हें की सुरक्षित स्थानों पर भेज दिया गया है। गंगा में हो रहे कटाव पर नियंत्रण के लिए सरकार को लिखा गया है, शीघ्र कार्रवाई शुरू हो जाएगी। इधर बूढ़ी गंडक के खोदावंदपुर से लेकर नावकोठी प्रखंड तक के क्षेत्र में कई जगहों पर रिसाव होने के कारण स्थानीय लोगों में दहशत का माहौल है। ग्रामीण भी चौबीसों घंटे बांध की निगरानी तथा निरोधात्मक कार्य में प्रशासन की मदद में जुटे हुए हैं। हिन्दुस्थान समाचार/सुरेन्द्र/चंदा-hindusthansamachar.in