अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी के विरोध में पटना में पत्रकारों का प्रदर्शन
अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी के विरोध में पटना में पत्रकारों का प्रदर्शन
बिहार

अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी के विरोध में पटना में पत्रकारों का प्रदर्शन

news

अर्नब की गिरफ्तारी के विरोध में बिहार के पत्रकारों ने दिखाई एकजुटता पटना, 05 नवम्बर (हि.स.)। रिपब्लिक भारत के प्रधान संपादक अर्णब गोस्वामी की गिरफ्तारी के विरोध में गुरुवार को बिहार के सभी पत्रकार संगठनों ने विभिन्न स्थानों पर प्रदर्शन किये। बिहार फेडरेशन आफ जर्नलिस्ट एंड मीडिया के संयोजकत्व में आयोजित बैठक में बुधवार को यह निर्णय लिया गया था । फेडरेशन में बिहार श्रमजीवी पत्रकार संघ, एनयूजे बिहार, बिहार प्रेस मेंस यूनियन, आईएफडब्ल्यू जे (बिहार), आल इंडिया रिपोटर्स एसोसिएशन, वेब जर्नलिस्ट एसोएिशन समेत कई संगठनों के प्रतिनिधि शामिल थे। गुरुवार को उसी क्रम में पत्रकार संगठनों ने प्रदर्शन किया। फेडरेशन द्वारा भी पटना में सांकेतिक प्रदर्शन किया गया। फेडरेशन के संयोजक प्रवीण बागी ने बताया कि अर्नब की गिरफ्तारी बिल्कुल असंवैधानिक तरीके से की गई है। जब-जब देश में पत्रकारों की अभिव्यक्ति की आजादी पर हमले हुए हैं, तब-तब उस सरकार की विदाई निश्चित तौर पर हुई है। आपातकाल के समय सेंसरशिप के माध्यम से पत्रकारों की आजादी छीनी गई थी। आजतक उसका दंड कांग्रेस भोग रही है। कई प्रदेशों में कांग्रेस की स्थिति मुख्य विपक्षी दल की भी नहीं रही। 80 के दशक में बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र और बाद में भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने भी यह कुकृत्य किया था। अब महाराष्ट्र सरकार यह निंदनीय कार्य कर रही है। महाराष्ट्र सरकार को सचेत हो जाना चाहिए। अर्नब गोस्वामी को यथाशीघ्र रिहा किया जाना चाहिए नहीं तो पत्रकार सड़कों पर उतर कर संघर्ष को बाध्य होंगे। फेडरेशन द्वारा भी पटना के गांधी मैदान के समीप स्थित जेपी गोलंबर के पास सांकेतिक प्रदर्शन किया गया। वरिष्ठ पत्रकार अनिल विभाकर, राजीव मिश्र,संजीव कुमार, फिल्म विश्लेषक प्रशांत रंजन, सोशल मीडिया एक्टीविस्ट विपुल कुमार सिंह, पत्रकार अश्विनी कुमार सिंह समेत कई मीडियाकर्मी इस प्रदर्शन में शामिल थे। हिन्दुुुस्थान समाचार/ प्रवीण/ विभाकर-hindusthansamachar.in