अखिल भारतीय किसानसंघर्ष समन्वय समिति के आह्वान पर,  विभिन्न किसान संगठनों ने लिया हिस्सा
अखिल भारतीय किसानसंघर्ष समन्वय समिति के आह्वान पर, विभिन्न किसान संगठनों ने लिया हिस्सा
बिहार

अखिल भारतीय किसानसंघर्ष समन्वय समिति के आह्वान पर, विभिन्न किसान संगठनों ने लिया हिस्सा

news

बेतिया,22 नवम्बर (हि.स.)। केंद्र सरकार द्वारा तीन किसान विरोधी काला कानून लाने और नया गन्ना मूल्य घोषित करने बकाया मूल्य भुगतान करने आदि सवालों को लेकर शहीद पार्क बेतिया के प्रांगण में अखिलभारतीय किसान संघर्ष समंवय समिति की बैठक किसान महासभा के रामचंद्र साह के अध्यक्षता मे संपन्न हुई। बैठक में सिकटा विधानसभा क्षेत्र से भाकपा माले विधायक वीरेंद्र प्रसाद गुप्ता शामिल हुए। तमाम किसान नेताओं कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार द्वारा तीन किसान विरोधी काला कानून लाया गया है, जो किसानों को गुलाम बनाने का काला कानून है।आवश्यक वस्तु अधिनियम की सीमा समाप्त कर किसानों के ऊपर क षि उत्पाद हडप लेने की योजना है मोदी सरकार पुरे देश को कंपनी राज बनाने मे लगी है। अपने जिला में भी चीनी मिलों का कंपनी राज है। किसानों को चीनी मिलों के रहमो करम पर रहने को मजबूर किया गया है। गन्ना का रेट निर्धारित किये बैगरह गन्ना किसानों से चीनी मिलें गाना ले रही है। कई सालों से गन्ना का मूल्य नहीं बढ़ाया गया है। उन्होंने ने चालू पेराई सत्र के लिए सरकार से 400 रुपये प्रति क्विंटल गन्ना मूल्य तय करने कि मांग किया। विधायक ने 26 नवम्बर को जिला मुख्यालय औंर 27 नवम्बर को प्रखंड मुख्यालय पर उतर कर विरोध करने का अह्वान किया। अखिल भारतीय किसान महासभा के जिला संयोजक सुनील कुमार राव ने कहा कि गाना पेराई सत्र मे गन्ना भेराइटी 2061 को निम्न कोटि घोषित करने पर रोक लगाने, छोटे मझोले किसानों के खुट्टी गन्ना चीनी मिलें अविलंब लेने की गरानंटी करें। भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष नेशार अहमद ने कहा कि गन्ना तौल के दौरान गेट पर निर्धारित गन्ना वजन से अधिक जो भी हो रहा है उसे भी सरकार लेने की गारंटी करें। घटतौली को रोकने के लिए चीनी मिल के सेश पैसे से किसान संगठनों के देखरेख में चीनी मीलो के गेटो व क्रय केन्द्र पर धर्म कांटा लगाया जाए ताकि घटतौली पर रोक लगाई जाए। अन्य नेताओं ने भी हड़ताल को सफल बनाने का आह्वान किया। मीटिंग में किसान नेता सुजायत अंसारी, शेख जोखन, शेषनाथ यादव,शेख सफाकुल, ईद मोहम्मद, इंद्रदेव कुशवाहा, लालजी यादव, धर्म कुशवाहा, शेख मकबूल,योगेंद्र यादव, रिखी साह,रामप्रसाद गिरि,रामबाबू महतों, मनबोध साह,सत्य नारायण साह, प्रभु साह, आदि नेताओं ने भी 26 27 नवंबर को अखिल भारतीय आम हड़ताल को सफल बनाने को लेकर बढ़ चढ़कर हिस्सा लेने का आह्वान किया। हिन्दुस्थान समाचार / अमानुल हक-hindusthansamachar.in