पूसीरे के महाप्रबंधक ने कोविड संबंधी उपायों पर की चर्चा

पूसीरे के महाप्रबंधक ने कोविड संबंधी उपायों पर की चर्चा
the-general-manager-of-poushire-discussed-the-measures-related-to-kovid

-राज्यों को आवश्यक सहायता प्रदान कर रही पूसीरे गुवाहाटी, 13 मई (हि.स.)। पूर्वोत्तर सीमा रेल (पूसीरे) के महाप्रबंधक अंशुल गुप्ता ने गुरुवार को मुख्यालय मालीगांव में एक वर्चुअल संवाददाता सम्मेलन के जरिए संवाददाताओं से बातचीत की। महाप्रबंधक ने पूसीरे तथा भारतीय रेल द्वारा सर्वांगीण रूप से किए जा रहे क्रियाकलापों पर एक प्रस्तुतीकरण रखा । उल्लेखनीय है कि कोविड-19 के प्रसार को रोकने के क्रम में पूसीरे राज्य सरकारों के स्वास्थ्य देखभाल के प्रयासों की प्रतिपूर्ति के लिए हरसंभव कोशिश कर रही है। कोविड-19 के मरीजों की जरूरतों को पूरा करने के लिए 288 पैसेंजर कोचों को कोविड केयर आइसोलेशन कोचों में रूपांतरण, रेलवे के वर्तमान अस्पतालों को ऑक्सीजन संयंत्रों आदि के साथ सुसज्जित करने जैसे उपाय शामिल हैं। पूसीरे कुल 354 बिस्तरों के साथ अपने 6 रेलवे अस्पतालों में कोविड संक्रमित मरीजों के उपचार की सुविधाएं उपलब्ध कराई है। इस सभी स्पेशल वार्डों में अल्प लक्षणों वाले कोविड संक्रमित मरीजों के उपचार के लिए आवश्यक सभी बुनियादी स्वास्थ्य देखरेख सुविधाएं उपलब्ध हैं। इस महामारी के दौरान, अर्थव्यवस्था की गति को बनाये रखने तथा आवश्यक तथा अन्य सामग्रियों की मांग को पूरा करने के लिए कई तरह की रुकावटों के बावजूद भारतीय रेल द्वारा अप्रैल, 2021 तक अब तक की सर्वोच्च 111.53 एमटी लोडिंग की गई। यह अप्रैल, 2019 में पूर्ववर्ती सर्वोच्च आंकड़ा 101.04 एमटी से 10.4 प्रतिशत अधिक है। पूसीरे ने इस वर्ष अब तक 1.04 एमटी लदाई की है, जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि में यह आंकड़ा 0.47 एमटी था। पूसीरे ने पिछले वर्ष 9731 रेकों की तुलना में वर्ष 2020-21 के दौरान 11659 फ्रेट रेकों को निर्गमित किया, जो 20 प्रतिशत अधिक है। पिछले वर्ष 622 रेकों की तुलना में इस वर्ष अप्रैल के दौरान 1186 रेक अनलोड किए गए, जो 90.68 प्रतिशत अधिक है। अर्थव्यवस्था को गतिशील रखने तथा लोडिंग एवं अनलोडिंग में शामिल श्रमिकों की आमदनी बरकरार रखने के लिए पिछले वर्ष के दौरान, गुड्स ट्रैफिक की हैंडलिंग के लिए 26 नए स्टेशन खोले गए, पार्सल ट्रैफिक की हैंडलिंग के लिए 12 नए स्टेशन खोले गए तथा 18 गुड्स शेडों में 24 घंटे सातों दिन लोडिंग एवं अनलोडिंग की सुविधाएं उपलब्ध कराई गई। कोविड संबंधी प्रतिबंधों के बावजूद पूसीरे क्षेत्र में करीब 50 प्रतिशत यात्री ट्रेन सेवाएं शुरु की गई है। वर्तमान में, जरूरतमंद लोगों की यात्रा के लिए प्रतिदिन 78 स्पेशल ट्रेनों तथा 35 लोकल पैसेंजर ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है। भारतीय रेल जरूरतमंद राज्यों को राहत पहुंचाने के लिए ऑक्सीजन एक्सप्रेस का भी परिचालन कर रही है। 19 अप्रैल, 2021 को मुम्बई से वाइजैग के बीच पहली ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन चलाई गई थी तथा 11 मई, 2021 तक राज्यों को राहत पहुंचाने के लिए 100वां ऑक्सीजन एक्सप्रेस गंतव्य तक पहुंचाई गई। भारतीय रेल ने बुधवार तक के आंकड़े के अनुसार 6260 एमटी से भी अधिक लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन की ढुलाई कर चुकी है। पूसीरे भी राज्य सरकारों की जरूरत के अनुसार ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनें चलाने के लिए तैयार है। रेलवे द्वारा कंसाइनमेंट को तेजी से गंतव्य तक पहुंचाने के लिए एक ग्रीन कॉरिडोर तैयार करते हुए दिल्ली से गुवाहाटी तक एक ऑक्सीजन प्लांट का परिवहन करने वाली जीवन प्रकाश स्पेशल चलाई गई थी। इस ट्रेन ने 65 किमी प्रति घंटे की औसत गति पर सिर्फ 32 घंटे में लगभग 2100 किमी की दूरी तय की। हिन्दुस्थान समाचार/ अरविंद

अन्य खबरें

No stories found.