ndrf-carries-out-plantation-with-joint-mock-drill-on-disaster-management
ndrf-carries-out-plantation-with-joint-mock-drill-on-disaster-management
असम

एनडीआरएफ ने आपदा प्रबंधन पर संयुक्त मॉक ड्रिल के साथ किया वृक्षारोपण

news

गुवाहाटी, 19 फरवरी (हि.स.)। प्रथम वाहिनी एनडीआरएफ के कमांडेंट आरएस गिल के नेतृत्व में सहायक कमांडेंट संजीव कुमार ने गुवाहाटी के सोरुसजाई स्थित गोडवीन स्कूल में शुक्रवार को आपदा प्रबंधन पर जिला स्तरीय संयुक्त मॉक ड्रिल का आयोजन किया। इसका मुख्य उद्देश्य आपदा के समय जनता में जागरूकता पैदा करना। जिला स्तरीय संयुक्त मॉक ड्रिल के उपरांत वृक्षारोपण अभियान का भी आयोजन किया गया। जिसमें एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, फायर एंड इमरजेंसी सर्विसेज, सिविल डिफेंस और स्कूल के बच्चों के साथ-साथ शिक्षक भी शामिल हुए। ज्ञात हो कि पूर्वोत्तर का इलाका आपदाओं के लिए बेहद सवेंदनशील है। बाढ़ और भूकंप के कारण आये आपदा के दौरान बचाव अभियान काफी चुनौतीपूर्ण बन जाता है। गहन प्रशिक्षण और मॉक ड्रिल आपदा की स्थिति में प्रतिक्रिया करने के लिए आत्मविश्वास विकसित करता है। एक प्रतिक्रिया बल के रूप में एनडीआरएफ बचाव दल अपने क्षेत्र में उत्कृष्टता रखता है। संयुक्त मॉक ड्रिल आयोजन में कुल 380 लोगों ने हिस्सा लिया। किसी भी किस्म के प्राकृतिक आपदा से बचाव के लिए बहुत से कार्य हैं लेकिन इनमें प्रथम और सुलभ कार्य है "वृक्षारोपण"। वृक्षारोपण अभियान के तहत अलग-अलग किस्म के कुल 40 पौधे स्कूल परिसर में लगाए गए। आपदा प्रबंधन पूर्वोत्तर में विकास के टिकाऊ होने की कुंजी है। पूर्वोत्तर राज्य बाढ़ और भूकंप के अंतर्गत आते हैं, जो इन राज्यों के खतरों और संबंधित जोखिमों के लिए अधिक संवेदनशील बनाते हैं। आपदा प्रबंधन में समुदाय एक बहुत महत्वपूर्ण तत्व है, अगर हम स्थिर और सुरक्षित समाज के लिए आपदा प्रतिरोध क्षमतापूर्ण भारत का सपना देखते हैं, तो समुदाय को संवेदनशील बनाना होगा और आपदा प्रबंधन की मूल बातों से निपटने के लिए जागरूक करना होगा। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल अपने मिशन पर है जिसका उद्देश्य है : "अपदा सेवा सैदव"। हिन्दुस्थान समाचार/ अरविंद