if-the-kidnapped-youth-was-killed-paresh-would-be-known-as-a-tarnished-hero-in-history
if-the-kidnapped-youth-was-killed-paresh-would-be-known-as-a-tarnished-hero-in-history
असम

अगर अपहृत युवक की हत्या हुई परेश इतिहास में कलंकित नायक के रूप में जाने जाएंगे

news

शिवसागर (असम), 21 फरवरी (हि.स.)। प्रतिबंधित संगठन यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट आफ असम (उल्फा) स्वाधीन (स्व) अगर फिर एक बार शिवसागर के युवक की हत्या करता है तो संगठन के सेनाध्यक्ष परेश बरुवा भी ओसामा बिन लादेन की कतार में खड़े हो जाएंगे। इस कार्य के बाद उल्फा (स्वा) के सेनाध्यक्ष परेश बरुवा इतिहास में एक कलंकित नायक के रूप में दर्ज हो जाएंगे। ये बातें रविवार को ऊपरी असम मुस्लिम कल्याण परिषद के उपाध्यक्ष मनिरूल इस्लाम बोरा ने कही। उल्लेखनीय है कि तेल कंपनी में अभियंता के रूप में अरुणाचल प्रदेश के चांगलांग जिला में ड्यूटी कर रहे शिवसागर जिला निवासी अभियंता प्रणव कुमार गोगोई और बिहार निवासी राम कुमार का 21 दिसम्बर, 2020 को उल्फा (स्व) ने अपहरण कर लिया था। रिहाई के लिए उल्फा (स्व) ने भारी-भरकम धनराशि की मांग की थी। समय सीमा बीत जाने के बाद उल्फा (स्व) ने दोनों हत्या करने की घोषणा की थी। जिसके लेकर राज्य में उल्फा के विरूद्ध लोगों में भारी रोष उत्पन्न हो रहा है। उल्फा (स्व) के सेनाध्यक्ष परेश बरुवा राज्य के मीडिया से लगातार संपर्क कर अपनी सफाई देते हुए सरकार और आयल कंपनियों पर रिहाई को लेकर लापरवाही बरतने का आरोप लगा रहे हैं। इसी कड़ी में रविवार को शिवसागर प्रेस क्लब में योजित एक संवाददाता सम्मेलन में वृहत्तर असमिया युव मंच और उपरी असम मुस्लिम कल्याण परिषद ने परेश बरुवा को दोनों अभियंताओं को बिना शर्त रिहा करने का आह्वान किया है। दोनों संगठनों के नेताओं ने कहा कि शिवसागर में जन्में उल्फा (स्व) ने पहले भी शिवसागर के पत्रकार कमला सैकिया की हत्या किया था। उन्होंने अपहृत दोनों अभियंताओं को तुरंत रिहा करने का उल्फा (स्व) से आह्वान किया है। हिन्दुस्थान समाचार/ अरविंद