assam-election-polling-personnel-left-to-conduct-voting
assam-election-polling-personnel-left-to-conduct-voting
असम

असम चुनावः मतदान कराने के लिए मतदान कर्मी रवाना

news

गुवाहाटी, 05 अप्रैल (हि.स.)। असम विधानसभा चुनाव के तीसरे व अंतिम चरण के लिए 06 अप्रैल को होने वाले मतदान के लिए चुनाव कर्मी अपने-अपने मतदान केंद्रों की ओर सोमवार की सुबह से ही रवाना होना आरंभ कर दिया। तीसरे चरण में 11401 मतदान केंद्रों पर वोटिंग की व्यवस्था की गयी है। कुछ जिलों के बेहद दूर-दराज के इलाकों के लिए चुनाव कर्मी रविवार को ही रवाना हो गये थे। शांतिपूर्ण, स्वतंत्र और निष्पक्ष तरीके से मतदान कार्य को संपन्न कराने के लिए 320 केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल की कंपनियों को तैनात की गयी है। तीसरे और अंतिम चरण में कुल 40 निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान होना है। असम विधानसभा के 126 विधानसभा क्षेत्र में से पहले चरण में 47 व दूसरे चरण में 39 सीटों पर मतदान हुआ था। अंतिम चरण में 337 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। जिसमें 12 महिला और 325 पुरुष कुल 337 उम्मीदवार हैं। तीसरे चरण में 79,19,641 सामान्य मतदाता हैं। इनमें से 40,11,539 पुरुष हैं, 39,07,963 महिलाएं हैं जबकि, 139 ट्रांसजेंडर मतदाता हैं। सर्विस वोटरों की संख्या 24,460 है। जानकारी के अनुसार 320 सीएपीएफ कंपनियों में से 30 स्ट्रांग रूम ड्यूटी के लिए और शेष की ड्यूटी अन्य कानून व्यवस्था के लिए आरक्षित हैं। इन कंपनियों में केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीआरपीएफ), अन्य राज्यों और असम की राज्य सशस्त्र पुलिस (एसएपी) शामिल हैं। चुनाव आयोग के अनुसार कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए प्रत्येक मतदान केंद्र पर एक कांस्टेबल और एक होमगार्ड को तैनात किया गया है। आयोग ने कहा है कि इसके अलावा सेक्टर और जोनल पुलिस अधिकारी राज्य में सुरक्षा स्थिति पर नजर रखेंगे। राज्य में पहले चरण के 27 मार्च को हुए चुनाव में 400 सीएपीएफ कंपनियों की तैनाती देखी गई, वहीं 01 अप्रैल को दूसरे चरण में कुल 310 केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) कंपनी और असम राज्य पुलिस की 90 कंपनियों को तैनात किया गया था। कोरोना की बिगड़ती स्थिति को देखते हुए चुनाव आयोग ने दिशा-निर्देश जारी कर प्रति मतदान केंद्र पर अधिकतम मतदाताओं की संख्या 1600 से घटाकर 1000 कर दिया है। इन दिशा-निर्देशों में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) की स्वच्छता, मतदान कर्मियों द्वारा मास्क पहनना और अन्य सुरक्षात्मक उपाय, थर्मल स्क्रीनिंग की उपलब्धता, हैंड सेनेटाइजर, साबुन और बूथों पर पानी की व्यवस्था भी शामिल हैं। हिन्दुस्थान समाचार/ अरविंद