राज्यपाल ने बाढ़ प्रभावित जिलों का किया हवाई सर्वेक्षण
राज्यपाल ने बाढ़ प्रभावित जिलों का किया हवाई सर्वेक्षण
असम

राज्यपाल ने बाढ़ प्रभावित जिलों का किया हवाई सर्वेक्षण

news

गुवाहाटी, 23 जुलाई (हि.स.)। असम के राज्यपाल प्रो जगदीश मुखी ने गुरुवार को राज्य के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया और कहा कि वे राज्य के बाढ़ और कटाव के स्थायी समाधान का पता लगाने के लिए केंद्र से सिफारिश करेंगे। चूंकि राज्य में बाढ़ प्रभावित 26 जिलों के साथ गंभीर बाढ़ की स्थिति बनी हुई है, जिससे मानव और पशु जीवन, भौतिक बुनियादी ढांचे और फसलों को बड़े पैमाने पर नुकसान हुआ है। राज्यपाल प्रो मुखी ने मौजूदा बाढ़ की स्थिति का जायजा लिया और कहा, चूंकि बाढ़ और कटाव जारी है। वर्षों से राज्य में कहर बरपाने वाले बाढ़ का स्थायी और वैज्ञानिक समाधान राज्य और उसके लोगों को उनके भयावह प्रभाव से बचा सकता है। उन्होंने कहा, “राज्य के राज्यपाल के रूप में पिछले तीन वर्षों के मेरे अनुभव ने मुझे आश्वस्त किया कि हर साल बाढ़ लोगों, जानवरों और भौतिक अवसंरचना को नुकसान पहुंचाता है। इसलिए इस समस्या का स्थायी और वैज्ञानिक समाधान का पता लगाने की मदद के लिए केंद्र तक सिफारिश करने का काम करूंगा। राज्यपाल प्रो मुखी ने बाक्सा, चिरांग, बंगाईगांव, कोकराझार, ग्वालपारा, धुबरी और उदलगुरी जिलों का हवाई सर्वेक्षण किया और सरकार से हर प्रभावित व्यक्ति तक पहुंचने और यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि राहत सामग्री उनके पास पहुंचे। कोई भी भूखा न रहे इसके लिए प्रयास किए जाएंगे। चूंकि, बाढ़ ने जानवरों पर भी भारी असर डाला है। उन्होंने सरकार से जानवरों की सुरक्षा सुनिश्चित करने और जानवरों को भोजन उपलब्ध कराने के लिए भी कहा। उन्होंने कहा कि बाढ़ के प्रकोप के कारण कई हजार लोग बेघर हो गए हैं, सरकार बाढ़ का पानी उतने के बाद लोगों को अपने घरों के पुनर्निर्माण में मदद करना सुनिश्चित करेगी। राज्य बाढ़ और कोरोन महामारी की समस्याओं से जूझ रहा है। प्रो मुखी ने कहा कि इस असाधारण स्थिति में सभी सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन करते हुए लोगों तक पहुंचने का हर संभव प्रयास किया जा रहा है ताकि, महामारी और बाढ़ से लोगों को बचाया जा सकता है। उन्होंने लोगों से आह्वान किया कि वे राज्य की मौजूदा स्थिति से उबारने के लिए सरकारी एजेंसियों को सभी सहयोग बढ़ाएं। राज्यपाल के साथ एएसडीएमए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एमएस मनिवन्न भी मौजूद थे। हिन्दुस्थान समाचार / अरविंद-hindusthansamachar.in