बोडो समझौता के क्रियान्वयन के लिए भाजपा प्रतिबद्ध
बोडो समझौता के क्रियान्वयन के लिए भाजपा प्रतिबद्ध
असम

बोडो समझौता के क्रियान्वयन के लिए भाजपा प्रतिबद्ध

news

-सात सौ से अधिक विभिन्न जनगोष्ठियों के नेता भाजपा में शामिल गुवाहाटी, 09 अक्टूबर (हि.स.)। भाजपा के मूल्यबोध, नीति, आदर्श तथा मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल नेतृत्वाधीन सर्वस्पर्शी राज्य सरकार के कार्यों से प्रभावित होकर शुक्रवार को यूनाइटेड बोडो पीपुल्स ऑर्गेनाइजेशन (यूबीपीओ) के प्रदेश पदाधिकारियों व 21 जिलों के जिला अध्यक्ष के साथ बीपीएफ पार्टी के कुल 700 से अधिक बोडो जनसमुदाय के लोगों ने भाजपा का दामन थामा। भाजपा में औपचारिक रूप से शामिल लोगों में यूबीपीओ की केंद्रीय समिति के अध्यक्ष मिहिन्श्वर बसुमतारी, महासचिव अनिल बसुमतारी, उपाध्यक्ष गम्बरू मुसाहरी, बीटीसी के पूर्व एमसीएलए तथा बीपीएफ की केंद्रीय कार्यकारिणी के सदस्य रतीराम बोडो, बीटीसी के पूर्व एमसीएलए दंडी राधा राभा, भेरागांव जिला के सचिव जौचराम बोडो प्रमुख हैं। गुवाहाटी के श्रीमंत शंकरदेव कला क्षेत्र के प्रांगण में आयोजित कार्यक्रम में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रंजीत कुमार दास ने पार्टी में शामिल नए कार्यकर्ताओं का स्वागत किया और राष्ट्र के नाम पर सेवा प्रदान करने के लिए आगे आने का आह्वान किया। असम के स्थानीय लोगों के पार्टी में शामिल होने से भाजपा को पूर्णता मिलने की बात कहते हुए प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि यह सिर्फ भाजपा के लिए ही नहीं बल्कि, पूरे देश के लिए उल्लेखनीय मुद्दा है। उन्होंने कहा कि जाति-जनगोष्ठी के विकास के बिना राष्ट्र का विकास संभव नहीं है। इसलिए केंद्र सरकार के साथ राज्य सरकार भी इस मामले में निरंतर काम जारी रखे हुए है। बोडो जनगोष्ठी के लोगों को भाजपा में शामिल होने का अवसर नहीं मिल पाने की बात का उल्लेख करते हुए रंजीत दास ने कहा कि आज भाजपा में शामिल होने के जरिए सभी बाधाएं दूर हो गई और राज्य के विकास का मार्ग प्रशस्त हो गया। इस मामले में राज्य सरकार की ओर से उठाए गए कदम की भी प्रदेश अध्यक्ष ने सराहना की। उन्होंने कहा कि हम सभी को भारतीय सत्ता से राष्ट्रीयतावाद को अग्राधिकार देकर समाज के गठन के लिए काम करना पड़ेगा। भाजपा में शामिल नए कार्यकर्ताओं का स्वागत करते हुई नेडा के संयोजक व असम सरकार के मंत्री डॉ हिमंत विश्वशर्मा ने कहा कि स्थानीय लोगों के भाजपा में शामिल होने से पार्टी का संगठन और अधिक सक्रिय हो गया और एकत्रित होकर काम करने का एक वृहद मंच का निर्माण हुआ है। उन्होंने कहा कि अंत्योदय और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के महामंत्र से दीक्षित भाजपा स्थानीय निवासियों की जातिय सत्ता के संरक्षण, सांस्कृतिक विकास के लिए हमेशा काम करती आ रही है। विश्वशर्मा ने कहा कि नए बोडो करार से सिर्फ बीटीआर के भीतर का ही नहीं बल्कि बाहर में रहने वाले बोडो लोगों के राजनीतिक अधिकार भी सुरक्षित हुए हैं, जो बेमिसाल है। इससे बोडो जनगोष्ठी के लोगों में भाजपा के प्रति आस्था बढ़ने की बात प्रमाणित होती है। बोडो समझौता के क्रियान्वयन के लिए भाजपा पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। असम को मजबूत राजनीतिक केंद्र बिंदु के रूप में निर्माण करना भाजपा का प्रमुख उद्देश्य है। अपने संबोधन में डॉ विश्वशर्मा ने हाल में बोडो भाषा को असम की सहयोगी राज्य भाषा के रूप में स्वीकृति देने और बोडो काछारी स्वायत्तशासी परिषद के गठन पर विशेष रूप से प्रकाश डाला। नेडा के संयोजक ने पार्टी में शामिल नए सदस्यों को राज्य की प्रत्येक जाति -जन समुदायों के बीच भाजपा के नेतृत्व को आगे ले जाने की यात्रा में सहयोग करने का आह्वान किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनवाल ने नए कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि बराक- ब्रह्मपुत्र के अभिन्न अंग असम के प्रमुख जन समुदाय बोडो लोगों को भाजपा में शामिल करने के फैसले से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सबका साथ सबका विकास की नीति को वास्तव में प्रतिफल किया है। उन्होंने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार ने सभी के प्रति समान दृष्टि की नीति का अनुसरण किया है और जाति के निर्माण में अपना पूरा प्रयास लगाया है। सोनोवाल ने कहा कि भारत में असम को एक प्रमुख ताकतवर राज्य के रूप में निर्माण करने के लिए हम सभी को प्रतिबद्ध होना पड़ेगा। असम में अब मुगल के आक्रमण जारी होने की बात करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इस आक्रमण को रोकने के लिए भाजपा ही एकमात्र विकल्प है। प्रदेश उपाध्यक्ष जयंत मल्ल बरुवा के संचालन में आयोजित इस कार्यक्रम में प्रदेश के सांगठनिक महासचिव फणींद्र नाथ शर्मा, राष्ट्रीय समिति के पूर्व सचिव तथा पूर्व सांसद रमेन डेका, प्रदेश महासचिव व सांसद पल्लव लोचन दास, प्रदेश उपाध्यक्ष बिजली कलिता मेधी, जनजाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष हरेन देउरी के साथ ही प्रदेश पदाधिकारीगण व पार्टी के काफी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे। हिन्दुस्थान समाचार /अरविंद-hindusthansamachar.in