पूसीरे ने गतिरोधकों को हटा कर गति व सुरक्षा में की बढ़ोतरी का प्रयास
पूसीरे ने गतिरोधकों को हटा कर गति व सुरक्षा में की बढ़ोतरी का प्रयास
असम

पूसीरे ने गतिरोधकों को हटा कर गति व सुरक्षा में की बढ़ोतरी का प्रयास

news

गुवाहाटी, 23 जुलाई (हि.स.)। पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे (पूसीरे) ट्रेनों की अनुभागीय गति को बढ़ाने के लिए कई उपाय कर रही है। इसके लिए कमजोर अस्थायी एवं स्थायी गति रोधकों को हटाया जा रहा है। इसके अलावा विभिन्न अनुभागों में लूप लाइनों के जरिए ट्रेनों के आवागमन की गति को बढ़ाया गया है। इसके परिणाम स्वरूप यात्रा के पाबंद समय में सुधार के साथ ट्रेनों की गति में भी सर्वांगीण वृद्धि हुई है। पूसीरे के तिनसुकिया मंडल के अधीन 277.45 किमी अनुभागों में लूप लाइनों की गति में वृद्धि हुई है। इसमें 190.95 किमी लंबा फारकटिंग-सिमलुगुड़ी-श्रीपुरियागांव अनुभाग शामिल हैं, जिसके अंतर्गत 19 स्टेशन आते हैं तथा 86.50 किमी लंबा फारकटिंग-जोरहाट-मरियानी अनुभाग शामिल है, जिसके अंतर्गत 5 स्टेशन आते हैं। इस सुधार के परिणाम स्वरूप, ट्रेनें अब बढ़ी हुई गति के साथ इन स्टेशनों पर लूप लाइनों के जरिए गुजर सकती हैं और यात्रा के समय में कमी आएगी। इसी तरह पूसीरे के विभिन्न प्रकार के सुधारात्मक कार्यों द्वारा लमडिंग मंडल के अधीन 65.20 लंबे बराईग्राम-पेचारथाल अनुभाग तथा 20.27 किमी लंबे चंद्रनाथपुर-बदरपुर अनुभाग में ट्रेनों की अनुभागी गति को 100 किमी प्रति घंटे तक बढ़ा दिया गया है। इस अनुभागों में यात्रा करने वाली ट्रेनें अप वर्धित गति के साथ आवाजाही करेगी, जिससे यात्रा के समय में उल्लेखनीय कमी आएगी। इसके अलावा लमडिंग मंडल के लमडिंग-फुरकेटिंग अनुभाग में जून के महीने के दौरान 01 स्थायी गति रोधक को हटाया गया है। इससे संबंधित हिस्से में ट्रेनों को वर्धित गति के साथ यात्रा करने में सहायता मिलेगी। हिन्दुस्थान समाचार/ अरविंद-hindusthansamachar.in