दुर्गा पूजा के बावजूद मूर्तिकार बेहद मायूस
दुर्गा पूजा के बावजूद मूर्तिकार बेहद मायूस
असम

दुर्गा पूजा के बावजूद मूर्तिकार बेहद मायूस

news

काजीरंगा (असम), 16 अक्टूबर (हि.स.)। शारदीय दुर्गा पूजा के आयोजन को महज चंद दिन शेष हैं। लेकिन, पूजा को लेकर मूर्तिकार चिंतित हैं। करोनाा ने मूर्तिकारों का रोजगार छीन लिया है। यह कहना है काजीरंगा के स्थानीय मूर्तिकारों का। वे यह सोच कर परेशान है कि संकट की इस घड़ी में उनकी साल भर की रोजी रोटी कैसे चलेगी? क्योंकि, दुर्गा पूजा में वे जो मूर्तियां बनाते थे उसकी कमाई से उनके परिवार का साल भर का खर्चा चलता था। लेकिन, कोरोना के कारण इस बार मूर्तिकारों को मूर्तियों का आर्डर नहीं मिला है। पिछले साल दुर्गा पूजा के समय 20 से 40 प्रतिमा बनाने का ऑर्डर जिसे मिला था। उन्हें इस बार एक या चार प्रतिमा का आर्डर मिला है। कुछ को तो एक प्रतिमा का भी आर्डर नहीं मिला है। हर साल मूर्तिकार दुर्गा पूजा के लिए तैयारियां रथ यात्रा के बाद से ही शुरू कर देते थे। पूजा समिति के लोगों का मूर्तिकारों के यहां आना-जाना शुरू हो जाता था। ऑर्डर मिल जाता था। जिससे वे साल भर अपने परिवार का पलन पोषण कर पाते थे। लेकिन, इस बार ऐसा नहीं हुआ। जिसके चलते वे काफी मायूस हैं। काजीरंगा के मूर्तिकार प्रतिमा को अंतिम रूप देने में फिलहाल व्यस्त हैं। यह सत्य है कि इस बार कोरोना के कारण मूर्तिकारों के साथ जुड़े अन्य व्यवसायी भी बेहद परेशान हैं। वे बेहद चिंतित हैं। हिन्दुस्थान समाचार/ देबोजानी// अरविंद-hindusthansamachar.in