छठ घाटों पर आपदा से निपटने के लिए मुस्तैद रही एनडीआरएफ की टीमें
छठ घाटों पर आपदा से निपटने के लिए मुस्तैद रही एनडीआरएफ की टीमें
असम

छठ घाटों पर आपदा से निपटने के लिए मुस्तैद रही एनडीआरएफ की टीमें

news

गुवाहाटी, 20 नवम्बर (हि.स.)। महापर्व छठ के मौके पर शुक्रवार को सांध्य अर्घ्य और शनिवार की उगते सूर्य को अर्घ्य देने के दौरान किसी भी आपदा से निपटने के लिए प्रथम वाहिनी एनडीआरएफ के बचावकर्मी मुश्तैदी से तैनात रहे। लोक आस्था के महापर्व छठ पूजा की संध्या अर्घ्य के अवसर पर शुक्रवार को प्रथम वाहिनी एनडीआरएफ के 200 से अधिक बचावकर्मी 30 रेस्क्यू बोट के साथ प्रथम बटालियन एनडीआरएफ के कमांडेंट आरएस गिल के निर्देश पर कामरूप (मेट्रो) जिला गुवाहाटी के ब्रह्मपुत्र नद के कचहरी घाट, काचोमारी घाट, पांडु पोर्ट घाट और पलाशबारी घाट की निगरानी के साथ ही सभी तरह के संभावित खतरों से निपटने के लिए अत्याधुनिक बचाव उपकरणों के साथ मुश्तैदी से तैनात रहे। आरएस गिल ने बताया कि हमारे प्रशिक्षित बचावकर्मी छठ पूजा के दौरान संध्या अर्घ्य के अवसर पर ब्रह्मपुत्र नद के घाटों पर लोगों को हर संभव मदद करने के लिए तत्पर रहे तथा रेस्क्यू बोट से पेट्रोलिंग करते हुये मेगाफोन और सिटी के माध्यम से स्नान कर रहे श्रद्धालुओं को बैरेकेटिंग के अन्दर ही स्नान करने का अनुरोध करते दिखे। ताकि, कोई अप्रिय घटना न हो। देर शाम तक एनडीआरएफ की मेडिकल स्टाफ के साथ ब्रह्मपुत्र नद के घाटों के किनारे पेट्रोलिंग करती रही ताकि, जरूरत पड़ने पर लोगों को तुरंत चिकित्सा मदद मुहैया कराया जा सके। कमांडेंट गिल गुवाहाटी में ब्रह्मपुत्र नद के अलग-अलग घाटों पर जाकर स्वयं नजर बनाये रखे तथा एनडीआरएफ बचावकर्मियों की हौसला अफजाही करते हुये नजर आये। प्रथम वाहिनी एनडीआरएफ की टीमें शनिवार की सुबह सूर्योदय अर्ध्य के समय छठ व्रत समाप्ति तक ब्रह्मपुत्र नद घाटों पर तथा नदी के किनारे बोटों पर लगातार श्रद्धालुओं की निगरानी की ताकि, स्नान के दौरान किसी भी प्रकार की कोई अप्रिय घटना को रोका जा सके। हिन्दुस्थान समाचार/ अरविंद-hindusthansamachar.in