kondagaon-pmgsy39s-cc-road-from-mandanar-to-permapal-is-broken-condition-is-shabby
kondagaon-pmgsy39s-cc-road-from-mandanar-to-permapal-is-broken-condition-is-shabby
news

कोंडागांव:मड़ानार से पेरमापाल तक बना पीएमजीएसवाय का सीसी सड़क टूटा, हालत जर्जर

news

अधिकारी मौन, ठोटी मडानार व मुंगवाल के ग्रामीण हो रहे परेशान कोंडागांव, 07 मई (हि.स.)। ग्राम ठोटी मड़ानार से पेरमापाल तक बना पीएमजीएसवाय का सीसी सड़क विगत एक वर्ष पूर्व टूट जाने से ग्रामीणजनों के परेशान होने तथा संबधित विभाग के अधिकारी-कर्मचारी के मौन साधे बैठे होने का मामला सामने आया है। ज्ञात हो कि ग्राम पंचायत मुंगवाल एवं उसके आश्रित ग्राम ठोटी मडानार के बीच से गुजरते हुए ,नारायणपुर जिले के ग्राम धौड़ाई को जोड़ने हेतु प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना विभाग के द्वारा ,एक ठेकेदार ने लगभग तीन साल पहले सड़क निर्माण कार्य करवाया था। विगत बरसात के मौसम में भारी बारिश की वजह से उक्त स्थान पर सड़क टूटकर बह गया और बहुत गहरा गड्ढा हो जाने से ग्रामवासियों को आने-जाने में बहुत अधिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।परेशानियों को देखते हुए ग्राम पंचायत के सरपंच व अन्य पदाधिकारियों द्वारा मूलभूत फंड से गड्ढे को मिट्टी मुरुम से पाट दिया गया। जिससे आने-जाने में सहूलियत तो मिली है, लेकिन आगामी दिनों में बरसात में इस स्थान पर पुनः सड़क के टूट जाने से की आशंका से ग्रामीण परेशान व व्यथित हैं। बीते वर्ष जब नारायणपुर विधानसभा विधायक चंदन कश्यप भ्रमण करते हुए इस क्षेत्र में पहुंचे थे, तो ठोटी मडानार के ग्रामवासियों के द्वारा विधायक को भी आवेदन देकर बडे पुलिया का निर्माण करवाने सहित टूट गए सीसी सड़क को फिर से बनवाने का आग्रह किया गया था, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। वहीं उक्त समस्या के समाधान हेतु ग्राम पंचायत सरपंच द्वारा जनपद पंचायत कोण्डागांव कार्यालय में लिखित आवेदन देकर पुलिया निर्माण की स्वीकृति एवं राशि मांगी गई, लेकिन अब तक कोई सुनवाई नहीं हुई, होगी भी कैसे क्योंकि उक्त सड़क के लिए जिम्मेदार तो पीएमजीएसवाय विभाग है, न कि जनपद पंचायत कोण्डागांव। उल्लेखनीय है कि पीएमजीएसवाय विभाग कोण्डागांव के द्वारा केजंग रोड आरडी 5 किमी मडानार से पेरमापाल तक जो धौड़ाई से तोयेनार, ठोटी मड़ानार, मुंगवाल से होते हुए बयानार से भाटपाल पहुंच मार्ग से जोड़ने वाली 4.7 किमी लंबी उक्त सड़क निर्माण राहुल एन पटेल नामक ठेकेदार द्वारा करवाया गया है। इस सड़क के संधारण की जवाबदारी 1 अप्रैल 2019 से 31 मार्च 2024 तक ठेकेदार की है, लेकिन न ही ठेकेदार और न ही पीएमजीएसवाय विभाग के अधिकारियों को ही ग्रामीणजनों की उक्त समस्या से कोई सरोकार ही नजर आता है। हिन्दुस्थान समाचार/राजीव गुप्ता