कोंडागांव : लॉकडाउन में सब्जी नही बेच पा रहे किसानों को अब सता रही कर्ज पटाने की चिंता

कोंडागांव  : लॉकडाउन में सब्जी नही बेच पा रहे किसानों को अब सता रही  कर्ज पटाने की चिंता
kondagaon-farmers-unable-to-sell-vegetables-under-lockdown-are-now-worried-about-getting-beaten-debt

कोंडागांव , 04 मई (हि.स.)। छत्तीसगढ़ सहित जिले में चल रहे लाॅकडाउन की वजह से टमाटर व अन्य सब्जियों का उत्पादक किसानों को भारी नुकसान होने के मामले निरंतर सामने आ रहे हैं। कुछ दिनों पूर्व ही जिले के तहसील माकड़ी अंतर्गत आने वाले ग्राम तारगांव (रांधना) के एक सब्जी उत्पादक किसान फूलसिंह मरकाम ने स्वयं उत्पादित टमाटर को लाॅकडाउन के दौरान निःशुल्क ही जिला अस्पताल एवं कोविड सेंटर्स में वितरित कर दिया था। इस कार्य की कई स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने सराहना भी की, लेकिन वहीं उक्त किसान सहित जिले के अन्य सब्जी उत्पादक किसानों के दर्द या यूं कहें लाॅकडाउन से उपजे किसानों की परेशानियों का समाधान करने का प्रयास जिले के किसी भी स्तर के जनप्रतिनिधियों या अधिकारियों के द्वारा नहीं किया गया। अब ऐसा ही एक नया मामला जिला व तहसील कोंडागांव के अंतर्गत आने वाले ग्राम उमरगांव ब का सामने आया है, जहां निवासरत गोबरुराम पटेल द्वारा छह एकड़ में लगाए हुए टमाटर एवं अन्य सब्जियों को दिखाते हुए अपनी व्यथा बताया गया कि लाखों रुपये खर्च हो चुके हैं। दुकानों में भी दवाई, खाद आदि का उधारी है। सब्जियों को नही बेच पाने की वजह से अब गोबरु पटेल को उधारी चुकाने की चिंता सता रही है। वहीं अभी तक गोबरु मात्र 40 हजार रुपये का ही टमाटर व अन्य सब्जियां बेच पाया हैं। लॉकडाउन होने के कारण कहीं कोई बाजार नहीं लग रहा है, ऐसे में व्यापारी भी माल लेने से सीधा मना कर रहे हैं। लाकडाउन में किसानों की माली हालत बहुत ही कमजोर होती जा रही है। गोबरुराम पटेल ही नहीं जिले के अन्य सब्जी उत्पादक किसानों का भी यही हाल है, अब सोचने वाली बात यह है कि यदि ऐसे ही लाॅकडाउन का समय सीमा बढ़ाया जाता रहा तो जिले के सब्जी उत्पादक सभी किसानों का क्या होगा? क्योंकि गोबरुराम की तरह कोई भी किसान अपने द्वारा उत्पादित किए गए सब्जी को नहीं बेच पा रहा है, जिससे सभी किसानों की माली हालत दिन ब दिन खराब होती जा रही है। फसलें बेमौसम बारिष या बिमारियों या फिर सूखे के कारण खराब तो होती ही थी, वहीं अब लाॅकडाउन के कारण बाजारों के बंद रहने से खराब होने लगी है। हिन्दुस्थान समाचार/राजीव गुप्ता