जयपुर से अजमेर में प्रवेश करने वाले टिड्डी दल पर ड्रोन से किया नियंत्रण
जयपुर से अजमेर में प्रवेश करने वाले टिड्डी दल पर ड्रोन से किया नियंत्रण
news

जयपुर से अजमेर में प्रवेश करने वाले टिड्डी दल पर ड्रोन से किया नियंत्रण

news

अजमेर, 16 जून(हि.स.)। सीमावर्ती जयपुर जिले से अचानक एक बडे टिड्डी दल ने सिरोंज, कालानाडा होते हुए अजमेर जिले प्रवेश किया है। यह दल कुछ समय पश्चात् तीन से चार भागों में विभाजित हो गया। इसने सरवाड़ तहसील के सातोलाव, अंराई तहसील के बन्थली, दातंली, भोगादित, माला में पड़ाव डाला। कृषि विभाग द्वारा सातोलाव क्षेत्र के लिए सहायक निदेशक कृषि ब्यावर वी.के. छाजेड व दूसरे दल को सहायक निदेशक केकडी एम.एल. रेडिया के नेतृत्व में बन्थली, दातंली, भोगादित, माला में टिड्डी नियंत्रण की जिम्मेदारी दी गई। जिले में पहली बार टिड्डी चेतावनी संगठन के माध्यम से उपलब्ध कराये गये ड्रोन का उपयोग टिडडी दल पर नियंत्रण के लिए किया गया। दौथली के चारागाह क्षैत्र में मौजूद वृक्षों पर एवं घनी कंटीली झाडिया जहां ट्रेक्टर, फायर बिग्रेड आदि संसाधनों का भी प्रवेश संभव नहीं था, ऎसे लगभग एक हैक्टेयर के क्षेत्र में ड्रोन का इस्तेमाल किया गया। तकनीकी इस्तेमाल ने टिड्डी नियंत्रण करने के कार्य को आसान कर दिया एवं पूरे क्षेत्र पर एक साथ नजर रखी जा सकी। कृषि विभाग के उप निदेशक वी.के. शर्मा ने बताया कि जिले में निरन्तर टिड्डी दलो का प्रवेश हो रहा हैं। उन्होंने बताया कि इस अभियान में एक बडी फायर ब्रिगेड, 18 टे्रक्टर माउंटेड स्प्रेयर, 3 पानी के टेंकर, टिड्डी चेतावनी संगठन के 6 वाहन, 20-25 विस्तार कार्मिकों द्वारा 1048 हैक्टयर का सर्वे कर 287 हैक्टयर क्षेत्र में 115 लीटर कीटनाशी द्वारा टिड्डी नियंत्रण किया गया। इसमें कृषि अधिकारी मुकेश माली, सहायक कृषि अनुसंधान अधिकारी टीकमचन्द रेगर, गोपाल गैना, क्षेत्र के सहायक अधिकारी एवं कृषि पर्यवेक्षक तथा स्थानीय सरपंच कासीर भागचन्द जाट, भोगादित सरपंच श्रीमती उंषा कंवर, झीरोता सरपंच श्रीमती सीता देवी व ग्रामीणों का सक्रिय सहयोग रहा। हिन्दुस्थानसमाचार/संतोष/ ईश्वर-hindusthansamachar.in