jagdalpur-target-of-corona-vaccination-to-986-lakh-citizens-in-bastar-division
jagdalpur-target-of-corona-vaccination-to-986-lakh-citizens-in-bastar-division
news

जगदलपुर : बस्तर संभाग में 9.86 लाख नागरिकों को कोरोना टीकाकरण का लक्ष्य

news

45 वर्ष से अधिक उम्र के कुल 1.81 लाख नागरिकों को कोरोना टीके लगाए जाने का लक्ष्य जगदलपुर, 03 अप्रैल (हि.स.)। बस्तर संभाग में 9.86 लाख नागरिकों को टीका लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। बस्तर संभाग में कोरोना टीकाकरण का अभियान जारी है। टीका लगवाने वालों की संख्या में अब तेजी आ रही है। जनवरी 16 से प्रारंभ हुए इस अभियान के ढाई महीने पूरे हो चुके है। जनवरी में 6783 लोगों ने कोरोना के टीके लगवाए थे। जबकि फरवरी में 14,296 एवं मार्च में 51,516 लाभार्थियों ने टीके लगवाये है। अब जब सरकार ने 45 वर्ष से अधिक उम्र के सभी नागरिकों को टीका लगवाना शुरू किया तो उत्साह में कोई कमी नजर नहीं आई। लोग काफी संख्या में टीकाकरण केंद्रों में पंहुच रहे हैं। बस्तर संभाग में अब तक किसी भी लाभार्थियों में वैक्सीन के प्रतिकूल प्रभाव नजर नहीं आए हैं। टीके लगवाने वालों में हेल्थकेअर वर्कर्स के 11,298 लाभार्थियों ने टीके का पहला डोज व 6758 ने दूसरा डोज लिया है। फ्रंट लाइनवर्कर में 10461 ने पहला डोज व 5178 ने दूसरा डोज लिया है। जबकि सीनियरसिटीजन में पहला डोज लगवाने वाले लाभार्थियों की संख्या सर्वाधिक 39,818 रही है। स्वास्थ विभाग सेमिली जानकारी के अनुसार जिले में सभी वर्ग के कुल 9.86 लाख नागरिकों को टीके लगाए जाने का लक्ष्य रखा गया है, जिनमे 45वर्ष से अधिक उम्र के कुल 1.81 लाख नागरिकों को कोरोना टीके लगाए जाने का लक्ष्य रखा गया है। बस्तर जिले के सीएमएचओ आर.के.चतुर्वेदीने बताया 45 वर्ष से लेकर 60 वर्ष तक सभी लोगों को टीका लगवाने के लिए आगे आना चाहिए। अभी तक लगे टीकों में किसी को भी कोई साइड-इफेक्ट नहीं हुआ है। कोविड के बढ़ रहे मामलों के मद्देनजर लोगों को बहुत ही सावधान होने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि कोरोना एक बार फिर से बस्तर में अपने पैर तेजी से पसार रहा है। कोरोना मरीजों के बढ़ते आंकड़े इसके संकेत है। ऐसे में कोरोना सबन्धी गाइडलाइन का सख्ती के साथ पालना करना जरूरी है। घर से बाहर निकलते समय मास्क का प्रयोग अनिवार्य रूप से करें। भीड़भाड़ वाले जगहों पर जाने से बचे, साथ ही आपस मे उचित दूरी बनाकर रखें। हिन्दुस्थान समाचार/राकेश पांडे