झेंग हे की भावना चीन की नौकायन प्रक्रिया को प्रोत्साहित करती है

 झेंग हे की भावना चीन की नौकायन प्रक्रिया को प्रोत्साहित करती है
zheng-he39s-spirit-encourages-china39s-sailing-process

बीजिंग, 10 जुलाई (आईएएनएस)। इस 11 जुलाई को 17वां चीन नौकायन दिवस है। इस बार के चीन नौकायन दिवस का विषय नौकायन की नई यात्रा का आरंभ और नौपरिवहन के नये भविष्य की संयुक्त स्थापना है। वर्ष 2020 के अंत तक चीन में समुद्रगामी वाहक जहाजों की कुल संख्या 1499 जा पहुंची है, जबकि कुल उपयोगी भार 5.457 हजार टी से अधिक है। चीन के प्रादेशिक समुद्री क्षेत्रों का कुल क्षेत्रफल 300 से अधिक वर्ग किलोमीटर है। नौकायन के जरिये चीन और अन्य देशों के बीच अंतर्राष्ट्रीय व्यापारों में से 90 प्रतिशत पूरा हुआ। वर्तमान में जल परिवहन क्षेत्र में चीन दुनिया में सबसे ज्यादा प्रभावशाली देश बना है। साथ ही चीन यातायात के क्षेत्र में शक्तिशाली देश बनने की राह पर अग्रसर है। अब जल परिवहन क्षेत्र में चीन में चार मुख्य विशेषताएं हैं। पहला, चीन में बंदरगाहों का आकार पूरी दुनिया में सबसे बड़ा है। दूसरा, चीन में नौवाहक जहाज का आकार निरंतर बढ़ाया जाता है। तीसरा, पिछले कुछ सालों में चीन में नदी के जरिये माल ढुलाई की कुल मात्रा दुनिया भर सबसे बड़ी है। चौथा, चीन के जल परिवाहन से संबंधित विज्ञान और तकनीक दुनिया में अग्रणी स्तर पर हैं। भविष्य में जल परिवहन क्षेत्र में चीन उच्च गुणवत्ता वाले विकास को आगे बढ़ाएगा। पहला, चीन आधारिक संरचना और उच्च श्रेणी की नौवाहन सेना क्षेत्रों में अपनी कमजोरी को दूर करेगा। दुसरा, चीन समुद्री परिवाहन सेवा क्षेत्र में अपनी सुरक्षा क्षमताओं में सुधार करेगा। तीसरा, चीन संबंधित नीति और कदमों का उपचार को बढाएगा। चौथा, चीन हरित, सुरक्षित और स्मार्ट जल परिवहन के विकास को बढ़ाएगा। पता चला है कि वर्ष 2005 11 जुलाई चीन के मिंग राजवंश के नेविगेटर झेंग हे की सात नौकायन अभियानों की शुरूआत की 600वीं वर्षगांठ है। वर्ष 2005 चीन ने हर 7 जुलाई को चीन नौकायन दिवस मनाना तय किया। झेंग हे ने दक्षिण पूर्व एशिया, भारतीय उपमहाद्वीप, पश्चिमी एशिया और पूर्वी अफ्रीका में अभियान संबंधी खजाने की यात्रा की। उनकी सात नौकायन अभियानों से मानव समुदाय और अंतर्राष्ट्रीय संबंध काफी प्रभावित हुए हैं। वर्तमान में न केवल समुद्री परिवहन और वैज्ञानिक जांच, बल्कि चीन और अन्य देशों के बीच आर्थिक, व्यापारिक और सांस्कृतिक आदान-प्रदान को बढाना आदि क्षेत्रों में चीन के नौकायन कार्यों को विश्व प्रसिद्ध उपलब्धि मिली है। चीन ने झेंग हे की भावना की विरासत और विकास किया है। 21वीं सदी समुद्र की सदी है। चीन में महासागर का व्यापक प्रबंधन और चीनी राष्ट्र के महान कायाकल्प को साकार करने पर चीनी सपना के बीच सामरिक संबंध निर्धारित हुआ है। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीसी) की 19वीं राष्ट्रीय कांग्रेस में जारी की गयी रिपोर्ट के अनुसार चीन को भूमि और समुद्र को ध्यान में रखते हुए समग्र योजना बनाना और समुद्री शक्तिशाली देश बनाने में तेजी लाना चाहिये। झेंग हे की भावना चीन की नौकायन प्रक्रिया को प्रोत्साहित करती है। ( साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग ) --आईएएनएस एएनएम

अन्य खबरें

No stories found.