अमेरिकी सेना की जैविक प्रयोगशालाओं में आखिर क्या हो रहा है?

 अमेरिकी सेना की जैविक प्रयोगशालाओं में आखिर क्या हो रहा है?
what-is-happening-in-the-biological-laboratories-of-the-us-military

बीजिंग, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। विश्व भर में अमेरिकी सेना ने 200 से अधिक जैविक प्रयोगशालाएं स्थापित की हैं। उदाहरण के लिए कजाकस्तान में अमेरिकी सेना की सहायता वाले 6 जैविक केंद्र हैं। रूसी सैन्य व राजनीतिक विश्लेषण वेबसाइट की एक रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका की सहायता से वर्ष 2017 में अलमाटी प्रयोगशाला ने केजी-33 कार्यक्रम लागू किया। प्रयोगशाला के कर्मचारियों ने 200 चमगादड़ के मूल-नमूने एकत्र किये, जिनमें 12 किस्मों के कोरोना वायरस पाये गये। अब कजाकस्तान के कई लोगों का विचार है कि कोविड-19 वायरस का स्रोत यह केजी-33 कार्यक्रम है ,जिसमें अमेरिकी रक्षा मंत्रालय के ठेकेदार ने भाग लिया था। कजाकस्तान की जनता अमेरिकी जैविक प्रयोगशाला बंद करने की जबरदस्त मांग करती है । अमेरिकी सेना की प्रयोगशाला पर विभिन्न देशों की जनता की आशंका के प्रति अमेरिकी सरकार को जवाब देना है। क्योंकि यह समग्र मानव स्वास्थ्य से संबंधित है। विश्व को इसकी असलियत जानने का अधिकार है। (साभार---चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग ) --आईएएनएस एएनएम

अन्य खबरें

No stories found.