अमेरिका ने उत्तर कोरिया को धार्मिक स्वतंत्रता के उल्लंघनकर्ता के रूप में नामित किया

 अमेरिका ने उत्तर कोरिया को धार्मिक स्वतंत्रता के उल्लंघनकर्ता के रूप में नामित किया
us-names-north-korea-as-violator-of-religious-freedom

वॉशिंगटन, सियोल 18 नवंबर (आईएएनएस)।अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा कि अमेरिका ने उत्तर कोरिया को धार्मिक स्वतंत्रता के राज्य उल्लंघनकर्ता के रूप में नामित किया है। योनहाप समाचार एजेंसी ने बुधवार को एक बयान में ब्लिंकन के हवाले से कहा, उत्तर कोरिया उन 10 देशों में से एक है जिसे विशेष चिंताजन देश के रूप में नामित किया गया है। उन्होंने कहा कि मैं बर्मा, पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना, इरिट्रिया, ईरान, डीपीआरके, पाकिस्तान, रूस, सऊदी अरब, ताजिकिस्तान और तुर्कमेनिस्तान को विशेष चिंताजन देशों के रूप में नामित कर रहा हूं, जो व्यवस्थित, चल रहे हैं लेकिन धार्मिक स्वतंत्रता का गंभीर उल्लंघन कर रहे हैं। डीपीआरके का मतलब डेमोक्रेटिक पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ कोरिया है, जो उत्तर कोरिया का आधिकारिक नाम है। यह लगातार 20वां वर्ष है जब उत्तर को धार्मिक स्वतंत्रता के राज्य उल्लंघनकर्ता के रूप में नामित किया गया है। ब्लिंकन ने धार्मिक स्वतंत्रता के लिए संरचनात्मक, व्यवस्थित और गहरी जड़ों से जुड़ी चुनौतियों को समाप्त करने के लिए प्रयास करने को कहा, साथ ही अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से भी ऐसा करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि आज भी दुनिया में धार्मिक स्वतंत्रता के लिए चुनौतियाँ संरचनात्मक, व्यवस्थित और गहराई तक समाई हुई हैं। धार्मिक स्वतंत्रता के 10 राज्य उल्लंघनकर्ताओं के साथ, ब्लिंकन ने यमन में हाउति मिलिशिया और इस्लामिक स्टेट (आईएस) आतंकवादी समूह सहित नौ गैर-राज्य अभिनेताओं को भी विशेष चिंताजनक संस्थाओं के रूप में नामित किया, जबकि अल्जीरिया, कोमोरोस, क्यूबा और निकारागुआ को धार्मिक स्वतंत्रता के गंभीर उल्लंघन में लिप्त और सहन करने वाले देशों के लिए एक विशेष निगरानी सूची में रखा है। --आईएएनएस एमएसबी/एसकेके

अन्य खबरें

No stories found.