ब्रिटेन ने वेरिएंट की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया जानने के लिए कोविड एंटीबॉडी परीक्षण शुरू किया

 ब्रिटेन ने वेरिएंट की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया जानने के लिए कोविड एंटीबॉडी परीक्षण शुरू किया
uk-launches-covid-antibody-test-to-measure-immune-response-to-variants

लंदन, 22 अगस्त (आईएएनएस)। ब्रिटेन ने यह पता लगाने के लिए एंटीबॉडी परीक्षण शुरू किया है कि कोविड-19 से संक्रमित होने के बाद लोगों को कितनी प्राकृतिक सुरक्षा मिली है। बीबीसी ने बताया कि फिंगर-प्रिक परीक्षण पहली बार शुरू की गई एक सरकारी योजना का हिस्सा है और हर दिन हजारों वयस्कों को परीक्षण की पेशकश करेगा। यह ब्रिटेन को टीकाकरण कार्यक्रम के प्रभाव और विभिन्न प्रकारों के लिए प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया में महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि प्राप्त करने में मदद करेगा। 24 अगस्त से, 18 वर्ष से अधिक आयु के लोग पीसीआर परीक्षण के दौरान एंटीबॉडी परीक्षण का विकल्प चुन सकेंगे। संक्रमित हुए 8,000 तक लोगों के दो घरेलू एंटीबॉडी परीक्षण भेजे जाएंगे। पहला परीक्षण कोविड-19 के लिए सकारात्मक परीक्षण के तुरंत बाद लिया जाना चाहिए, इससे पहले कि शरीर संक्रमण के लिए पता लगाने योग्य एंटीबॉडी प्रतिक्रिया उत्पन्न करे। रिपोर्ट में कहा गया है कि संक्रमण के जवाब में उत्पन्न एंटीबॉडी को मापने के लिए 28 दिनों के बाद दूसरा परीक्षण किया जाना चाहिए। स्वास्थ्य सचिव साजिद जाविद के हवाले से कहा गया है कि इसमें भाग लेना त्वरित और आसान होगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, एंटीबॉडी सुरक्षा के बारे में समझ को बेहतर बनाने में मदद करने के अलावा, यह योजना उन लोगों के किसी भी समूह के बारे में भी जानकारी देगी, जिन्होंने कोरोनावायरस होने के बाद प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया विकसित नहीं की थी। स्कॉटलैंड के स्वास्थ्य सचिव हमजा यूसुफ ने कहा, यह महत्वपूर्ण है कि हमें टीके की प्रभावशीलता और व्यापक आबादी की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया की पूरी समझ हो। यूसुफ ने कहा, इस एंटीबॉडी परीक्षण अध्ययन से हमें इसे हासिल करने में मदद मिलेगी और यह वायरस को नियंत्रण में रखने की लड़ाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। --आईएएनएस एसजीके/आरजेएस

अन्य खबरें

No stories found.