kovid-omicron-variant-no-entry-for-citizens-of-african-countries-in-nepal
kovid-omicron-variant-no-entry-for-citizens-of-african-countries-in-nepal
दुनिया

कोविड ओमिक्रोन वेरिएंट : अफ्रीकी देशों के नागरिकों की नेपाल में नो एंट्री

news

काठमांडू, 29 नवंबर (आईएएनएस)। नेपाल के गृह मंत्रालय ने कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रोन से उत्पन्न होने वाले खतरे का हवाला देते हुए अफ्रीकी देशों के नागरिकों के प्रवेश में रोक लगाने का फैसला किया है। मंत्रालय के प्रवक्ता फणींद्रमणि पोखरेल ने सिन्हुआ को बताया, कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रोन से उत्पन्न होने वाले खतरे को ध्यान में रखते हुए, हमने रविवार को अपने विभागों को निर्देश दिए कि वे सभी अफ्रीकी देशों के नागरिकों को तत्काल प्रभाव से देश में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दें, सिर्फ उन्हीं लोगों को आने दें जिनके पास आधिकारिक और राजनयिक पासपोर्ट हैं। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, शुरुआत में हमने उन्हें निर्देश दिया था, और इसे जल्द ही औपचारिक रूप दिया जाएगा। मंत्रालय ने नए नियम के लिए कोई समय सीमा निर्धारित नहीं की है क्योंकि नए वेरिएंट की वैश्विक स्तर पर जांच की जा रही है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने शुक्रवार को कोविड के नए वेरिएंट ओमिक्रोन की घोषणा की थी। जिसे पहली बार दक्षिण अफ्रीका में सबसे गंभीर स्तर पर घोषित किया गया था और आधिकारिक तौर पर इसे ग्रीक नाम ओमिक्रोन दिया गया था। नेपाल ने सितंबर में पर्यटन क्षेत्र में कोविड-19 के खिलाफ पूरी तरह से टीका लगाए गए विदेशी पर्यटकों के लिए ऑन-अराइवल वीजा सेवा को फिर से खोल दिया था। वहीं, पोखरेल ने स्पष्ट किया कि अफ्रीकी देशों के टीके लगाए गए पर्यटकों को भी फिलहाल नेपाल में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। उन्होंने कहा, अफ्रीकी नागरिक जिन्हें पहले ही विदेश में नेपाली दूतावास से नेपाल का वीजा मिल चुका है, उन्हें भी नेपाल में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। नेपाल का न तो वर्तमान में अफ्रीकी देशों के साथ सीधा हवाई संपर्क है और न ही बड़ी संख्या में देश में अफ्रीकी पर्यटक आए हैं। नेपाली गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि नेपाली नागरिकों और गैर-अफ्रीकी देशों के नागरिकों पर कोई निर्णय नहीं लिया गया है जो अफ्रीका के माध्यम से नेपाल पहुंचते हैं। नेपाल दो बार कोरोना वायरस की चपेट में आ चुका है, लेकिन हाल के महीनों में इसने कोरोना के नए मरीजों में कमी देखी है। --आईएएनएस एचएमए/आरजेएस