इजरायल करेगा अपने यहां अंतरराष्ट्रीय विमान सेवाएं बहाल, कुवैत ने लगाया प्रतिबंध
इजरायल करेगा अपने यहां अंतरराष्ट्रीय विमान सेवाएं बहाल, कुवैत ने लगाया प्रतिबंध
दुनिया

इजरायल करेगा अपने यहां अंतरराष्ट्रीय विमान सेवाएं बहाल, कुवैत ने लगाया प्रतिबंध

news

जेरूसलम/ दुबई, 02 अगस्त(हि.स.) । कोरोना वायरस के संकट के बीच एक तरफ जहां इजरायल इस माह में अपने यहां अंतरराष्ट्रीय विमान सेवाएं बहाल करने जा रहा है, वहीं कुवैत ने पाकिस्तान सहित अन्य उच्च जोखिम वाले कोविड-19 वायरस से संक्रमित 31 देशों के लिए उड़ान पर प्रतिबंध लगा दिया है। इस संबंध में इजरायल के परिवाहन मंत्रालय ने रविवार को घोषणा की कि वह अपने यहां 16 अगस्त से अंतरराष्ट्रीय विमान सेवाएं बहाल करने जा रहे हैं । परिवहन मंत्री मिरी रेगेव ने बताया कि दुनिया भर में जिस तरह से कई देशों में कोरोना वायरस का संकट बना हुआ है वैसा इजरायल में नहीं है। सभी परिस्थितियों पर गंभीर रूप से विचार करने के बाद प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने अंतर्राष्ट्रीय विमान सेवाएं बहाल करने का फैसला किया है। उन्होंने बताया कि इजरायल हवाई अड्डा प्रशासन विमानों की सेवाएं बहाल करने के लिए अपनी आवश्यक जरूरतों को पूरा करने के लिए फिर से सक्रिय हो चुका है, साथ ही उनका कहना यह भी था कि जिन देशों में कोरोना वायरस से होने वाली मृत्यु दर कम है, ऐसे देशों से इजरायल आने वाले यात्रियों को एकांतवास में नहीं रखा जाएगा । वहीं दूसरी ओर कुवैत ने कोरोनो वायरस के वैश्विक प्रसार बीच पाकिस्तान सहित 31 देशों में वाणिज्यिक उड़ानों पर प्रतिबंध लगा दिया है, जहां कोरोना के सबसे अधिक संक्रमित मिल रहे हैं। नागरिक उड्डयन महानिदेशालय ने कहा है कि यह प्रतिबंध अगली सूचना तक लागू रहेगा। इन देशों पर लगा प्रतिबंध कुवैत ने उड़ान भरने पर उतरने पर जिस देशों पर प्रतिबंध लगाया है, उनमें पाकिस्तान के अलावा, भारत, मिस्र, फिलीपींस, लेबनान और श्रीलंका जैसे देश भी शामिल हैं, जिनके कि नागरिक कुवैत में बड़ी संख्या में निवासरत हैं। सूची में चीन, ईरान, ब्राजील, मैक्सिको, इटली और इराक को भी प्रमुखता से शामिल किया गया है । इन देशों के अलावा अन्य कई देशों में कुवैत की वाणिज्यिक उड़ानों की आंशिक बहाली जारी रहेगी। उल्लेखनीय है कि कुवैत में अब तक 67,000 कोरोनोवायरस मामलों के सामने आने के साथ ही 400 से अधिक लोगों की मौत अब तक कोरोना से हो चुकी है । यहां इसके चलते लगाए गए प्रतिबंधों को उठाने के लिए जून से प्रक्रिया शुरू कर दी गई थी, अभी यहां कोरोना के संकट को देखते हुए आंशिक रूप से कर्फ्यू लगाया हुआ है। हिन्दुस्थान समाचार/निवेदिता शर्मा-hindusthansamachar.in