दक्षिण कोरिया में 2006 के बाद विदेशी आबादी घटी

 दक्षिण कोरिया में 2006 के बाद विदेशी आबादी घटी
foreign-population-in-south-korea-decreased-after-2006

सियोल, 16 नवंबर (आईएएनएस)। दक्षिण कोरिया ने अपनी विदेशी आबादी में पिछले साल की तुलना में नवंबर 2020 में 3.2 फीसदी की कमी देखी है, यह गिरावट साल 2006 के बाद सामने आई है। ये जानकारी आंतरिक मंत्रालय ने मंगलवार को दी। योनहाप समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक मंत्रालय की एक रिपोर्ट के अनुसार, विदेशी निवासियों की संख्या, 90 दिनों से ज्यादा समय से देश में रहने वाले विदेशी नागरिकों या कोरियाई और उनके बच्चों के रूप में परिभाषित की गई जो 2020 में नवंबर में 21.5 लाख थी, जबकि एक साल पहले इसी महीने में यह संख्या 22.2 लाख थी। पिछले साल नवंबर तक, विदेशी निवासियों की संख्या देश की कुल आबादी का 4.1 प्रतिशत थी। यह पहली बार है जब देश ने अपनी विदेशी आबादी में गिरावट दर्ज की है क्योंकि प्रासंगिक आंकड़े पहली बार 2006 में संकलित किए गए थे। यह गिरावट काफी हद तक विदेशी श्रमिकों और छात्रों की धीमी आमद के कारण है, क्योंकि महामारी ने सीमा पार यात्राओं को मुश्किल बना दिया है। उस महीने में विदेशी नागरिकों की संख्या में साल-दर-साल 4.7 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई और उनमें से, विदेशी श्रमिकों और छात्रों की आबादी में क्रमश: 11.6 फीसदी और 11.2 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। कुल विदेशी नागरिकों में, चीनी लोगों ने 44.2 प्रतिशत, उसके बाद वियतनामी 11.8 प्रतिशत, थाई 9.8 प्रतिशत और अमेरिकी 3.5 प्रतिशत हैं। इस बीच, पिछले साल नवंबर तक देश में रहने वाले कोरियाई लोगों की संख्या 13,400 थी, जो एक साल पहले की तुलना में 7.2 प्रतिशत अधिक है। राजधानी सियोल के आसपास के ग्योंगगी प्रांत में 715,331 या कुल विदेशी आबादी का 33.3 प्रतिशत के साथ क्षेत्र के अनुसार विदेशी निवासियों की सबसे बड़ी संख्या की मेजबानी कर रहा है। सियोल लगभग 20 प्रतिशत की मेजबानी कर रहा था, इसके बाद सियोल के पश्चिम में इंचियोन, 6.1 प्रतिशत था। शहर के स्तर पर, ग्योंगगी प्रांत के अंसन की सबसे बड़ी विदेशी आबादी 93,639 थी। मंत्रालय ने कहा कि आंकड़े केंद्रीय और नगरपालिका सरकारी एजेंसियों को विदेशी निवासियों को देश में बेहतर ढंग से बसने में मदद करने के उद्देश्य से नीतियां तैयार करने में मदद करने के लिए संकलित किए गए हैं। --आईएएनएस एसएस/आरजेएस

अन्य खबरें

No stories found.