china-will-carefully-discharge-the-may-presidential-work-of-the-security-council
china-will-carefully-discharge-the-may-presidential-work-of-the-security-council
दुनिया

सुरक्षा परिषद के मई के अध्यक्षीय कार्य का सावधानी से निर्वहन करेगा चीन

news

बीजिंग, 4 मई (आईएएनएस)। संयुक्त राष्ट्र में स्थित चीन के स्थायी प्रतिनिधि जांग चून ने 3 मई को आयोजित न्यूज ब्रीफिंग में संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों और संयुक्त राष्ट्र स्थित मुख्य मीडिया प्रतिनिधियों को सुरक्षा परिषद के मई के अध्यक्ष के रूप में चीन के कार्यो का परिचय दिया। उन्होंने कहा कि चीन सुरक्षा परिषद के सदस्य देशों और अन्य विभिन्न पक्षों के साथ संपर्क व समन्वय बढ़ाएगा, सावधानी से अपने कर्तव्य का निर्वाह करेगा और सुरक्षा परिषद की वास्तविक भूमिका बढ़ाएगा। जांग चून ने कहा कि सुरक्षा परिषद के एजेंडे के अनुसार चीन मई में अपने कार्य में निम्नलिखित क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करेगा। बहुपक्षीयवाद को बनाए रखें और अभ्यास करें, संयुक्त राष्ट्र की प्रमुख भूमिका का समर्थन करें; महामारी के मुकाबले के लिए एकजुटता और सहयोग को बढ़ावा दें और संघर्ष क्षेत्रों में देशों की बहाली व विकास को बढ़ावा दें; संयुक्त राष्ट्र चार्टर के उद्देश्यों और सिद्धांतों का पालन करते हुए क्षेत्रीय गर्म मुद्दों के राजनीतिक समाधान को बढ़ावा दें; संयुक्त राष्ट्र की क्षमता और तंत्र के निर्माण को मजबूत करें और जटिल चुनौतियों से निपटने के लिए गारंटी प्रदान करें। जांग चून ने कहा कि सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष के रूप में चीन ने 7 मई को अंतर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा बनाए रखें : बहुपक्षवाद और संयुक्त राष्ट्र से केंद्रित अंतर्राष्ट्रीय प्रणाली का संरक्षण विषय के साथ एक उच्चस्तरीय सम्मेलन आयोजित करने का प्रस्ताव पेश किया है। चीन 19 मई को एक उच्चस्तरीय सार्वजनिक बहस का आयोजन करेगा, जिसकी थीम है अफ्रीकी शांति और सुरक्षा : महामारी के बाद अफ्रीका के पुनर्निर्माण को बढ़ावा दें और संघर्ष की जड़ खत्म करें। संयुक्त राष्ट्र में चीन की अपनी वैध सीट की बहाली की 50वीं वर्षगांठ की चर्चा करते हुए जांग चून ने कहा कि पिछले 50 वर्षो में चीन हमेशा संयुक्त राष्ट्र चार्टर के उद्देश्यों और सिद्धांतों का पालन करता रहा है और हमेशा विश्व शांति का निमार्ता, वैश्विक विकास का योगदानकर्ता और अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था का रक्षक रहा है। बहुपक्षवाद और संयुक्त राष्ट्र के समर्थन में चीन कभी भी अनुपस्थित नहीं रहा है और भविष्य में भी पीछे नहीं रहेगा। (साभार : चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग) --आईएएनएस एसजीके/एएनएम