चीन-अफ्रीका सहयोग अति मजबूत हो रहा है

 चीन-अफ्रीका सहयोग अति मजबूत हो रहा है
china-africa-cooperation-is-getting-stronger

बीजिंग, 27 नवंबर (आईएएनएस)। चीनी कुआं जान बचाने का उपहार है। जिम्बाब्वे के लूमेई गांव में लम्बे समय से स्वच्छ पानी न होने की वजह से कई स्थानीय किसान हैजा जैसे रोगों से पीड़ित रहे। इस साल अगस्त माह में चीन सरकार की सहायता में निर्मित एक कुआं ने स्थानीय लोगों की स्वास्थ्य स्थिति में बड़ा सुधार किया है जिससे स्थानीय लोगों ने पानी स्रोत की समस्या का हल किया। 2012 से अब तक चीन सरकार ने जिम्बाब्वे में 1000 कुआं का निर्माण किया, 4 लाख से अधिक लोगों को इन से लाभ मिला है। छोटे कुआं से चीन-अफ्रीका के बीच परम्परागत मैत्री प्रतिबिंबित है। चीन सरकार द्वारा 26 नवम्बर को जारी नये युग में चीन-अफ्रीका सहयोग के श्वेत पत्र में चीन-अफ्रीका सहयोग की प्रचुर उपलब्धियों का तमाम सिंहावलोकन किया गया। चीन-अफ्रीका सहयोग ने दोनों पक्षों के लोगों को यथार्थ लाभ दिये हैं। महामारी का मुकाबला करने की मिसाल लें, चीन के मुसीबत समय पर कई अफ्रीकी देशों ने चीन को पैसे और सामग्रियों का चंदा दिया। जबकि अफ्रीका में महामारी का प्रकोप आया, तो चीन ने समय पर अफ्रीकी देशों को सहायता दी। अभी तक चीन ने अफ्रीका को कुल करीब 20 करोड़ टीकें प्रदान किये हैं और 15 अफ्रीकी देशों की ब्याज मुक्त कजरें को मुफ्त किया है। बेल्ट एंड रोड पहल में चीन ने निरंतर अफ्रीकी देशों को मदद दी और स्थानीय आत्म विकास की क्षमता को उन्नत किया। चीन की सहायता में अफ्रीका में 10 हजार किमी. रेल मार्गों का निर्माण किया गया, 1 लाख किमी. सड़कों का निर्माण किया गया, हजारों पुलों और सौ बंदरगाहों का निर्माण किया गया। साथ ही डिजिटल अर्थतंत्र, एयरोस्पेस, स्वच्छ ऊर्जा आदि नये क्षेत्रों में चीन ने अफ्रीकी देशों के लिए कई वैज्ञानिक व तकनीक सुयोग्य व्यक्तियों का प्रशिक्षण किया और अफ्रीकी देशों के साथ आपदा रोकथाम और कृषि सहयोग भी किया। कई दिनों के बाद चीन-अफ्रीका सहयोग मंच की मंत्री स्तरीय बैठक सेनेगल में आयोजित होगी। जानकारी के मुताबिक चीन आगामी तीन वर्षों में अफ्रीका के साथ सहयोग की अहम योजनाएं जारी करेगा। चाहे अंतर्राष्ट्रीय परिस्थिति में कैसा भी परिवर्तन आ जाए, कोई भी शक्ति चीन-अफ्रीका सहयोग की जड़ को हिला नहीं सकती है। (साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग) --आईएएनएस एएनएम

अन्य खबरें

No stories found.