बिडेन ने जेलेंस्की को निरंतर समर्थन का आश्वासन दिया

 बिडेन ने जेलेंस्की को निरंतर समर्थन का आश्वासन दिया
biden-assures-continued-support-to-zelensky

वॉशिंगटन, 8 जून (आईएएनएस)। अगले सप्ताह होने वाले यूएस और रूस शिखर सम्मेलन से पहले अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने अपने यूक्रेनी समकक्ष वलोडिमिर जेलेंस्की के साथ फोन पर हुई बातचीत में कीव को वाशिंगटन द्वारा दिए जाने वाले समर्थन की पुष्टि की है। सिन्हुआ समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन ने सोमवार को व्हाइट हाउस ब्रीफिंग में कहा कि बिडेन ने जेलेंस्की से कहा कि वह यूक्रेन की संप्रभुता, क्षेत्रीय अखंडता और उसकी आकांक्षाओं के लिए मजबूती से खड़े होंगे। साथ ही वो वाशिंगटन के व्हाइट हाउस में उनका स्वागत करने के लिए तत्पर हैं। फोन कॉल तब आया जब कीव ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ बिडेन की 16 जून की बैठक और रूस और जर्मनी के बीच नॉर्ड स्ट्रीम 2 गैस पाइपलाइन परियोजना पर अमेरिका के हालिया कदम के बारे में चिंता जाहिर की थी। एक्सियोस के साथ हाल ही में एक साक्षात्कार में, जेलेंस्की ने कहा कि वह नॉर्ड स्ट्रीम 2 परियोजना के पीछे एक कंपनी और उसके सीईओ के खिलाफ प्रतिबंधों को माफ करने के अमेरिकी फैसले से आश्चर्यचकित और निराश थे। यूक्रेन के नेता ने यूएस, रूस शिखर सम्मेलन से पहले बाइडेन से मिलने की उम्मीद भी जताई है। सुलिवन ने सोमवार को जोर देकर कहा, पुतिन के साथ बिडेन की मुलाकात रूस के लिए एक रिवार्ड नहीं है, बल्कि हमारे मतभेदों को प्रबंधित करने और उन क्षेत्रों की पहचान करने का प्रयास है। हम प्रगति करने के लिए अमेरिका के हित में काम कर सकते हैं। इस बीच, उन्होंने कहा कि बिडेन प्रशासन को शिखर सम्मेलन से महत्वपूर्ण नतीजे की उम्मीद नहीं है। बाइडेन इस सप्ताह के अंत में अपने राष्ट्रपति बनने के बाद पहली विदेश यात्रा शुरू करेंगे। वह जी7 शिखर सम्मेलन में भाग लेने और समूह के नेताओं के साथ द्विपक्षीय बैठक करने के लिए बुधवार से 13 जून तक यूके का दौरा करेंगे। इसके बाद राष्ट्रपति नाटो शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए ब्रुसेल्स, बेल्जियम और फिर पुतिन के साथ अपनी बैठक के लिए जिनेवा जाएंगे। हाल के वर्षों में वाशिंगटन और मास्को के बीच संबंध प्रतिकूल रहे हैं। दोनों देशें के बीच यूक्रेन, साइबर सुरक्षा, मानवाधिकार और अमेरिकी चुनाव हस्तक्षेप से संबंधित मुद्दों पर स्पष्ट मतभेद हैं। --आईएएनएस एमएसबी/आरजेएस