44वीं विश्व धरोहर महासभा फूचो में उद्घाटित

 44वीं विश्व धरोहर महासभा फूचो में उद्घाटित
44th-world-heritage-general-assembly-inaugurated-in-fucho

बीजिंग, 17 जुलाई (आईएएनएस)। 16 जुलाई को 44वीं विश्व धरोहर महासभा चीन के फूच्येन प्रांत के फूचो शहर में उद्घाटित हुई। 17 वर्षों के बाद चीन ने दूसरी बार इस महासभा का आयोजन किया है। वह भी विश्व धरोहर संरक्षण के क्षेत्र में चीन द्वारा आयोजित सबसे उच्च स्तरीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन है। यूनेस्को की महानिदेशक ऑड्रे अजोले ने 16 जुलाई की रात को आयोजित उद्घाटन समारोह में कहा कि कोविड-19 महामारी ने विश्व सांस्कृतिक व प्राकृतिक विरासतों के संरक्षण में नयी मुश्किलें डाली हैं। इस पृष्ठभूमि में आयोजित विश्व धरोहर महासभा का विशेष अर्थ है। उन्होंने कहा कि अब तक विश्व में कुल 1121 विश्व धरोहर घोषित किये गये हैं। भविष्य में यह संख्या और बढ़ेगी। हर धरोहर के पीछे एक कहानी छिपी हुई है। वर्ष 2020 में विश्व में पर्यटकों की संख्या में 66 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गयी है। जिससे विश्व धरोहर स्थलों की आय आधे से ज्यादा कम हो गयी है। पर अब पर्यटन के पुनरुत्थान का समय आ गया, इसलिये इस बार की महासभा बहुत महत्वपूर्ण है। बताया जाता है कि इस बार की महासभा में वर्ष 2020 और 2021 दो साल के विश्व धरोहर कार्यक्रमों की समीक्षा की जाएगी। इसमें विश्व धरोहर सूची के 45 कार्यक्रम और 258 विश्व धरोहर संरक्षण स्थिति संबंधी रिपोर्ट शामिल हुई हैं। (साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग) --आईएएनएस एएनएम

अन्य खबरें

No stories found.