श्रीलंका के नौसेना कमांडर ने एमटी डायमंड को बचाने में भारत के सहयोग को सराहा
श्रीलंका के नौसेना कमांडर ने एमटी डायमंड को बचाने में भारत के सहयोग को सराहा
दुनिया

श्रीलंका के नौसेना कमांडर ने एमटी डायमंड को बचाने में भारत के सहयोग को सराहा

news

कोलंबो, 10 सितम्बर (हि.स.)। श्रीलंका की नौसेना के कमांडर वाइस एडमिरल निशांथा उलुगेटेने गुरुवार को भारतीय तटरक्षक बल (आईसीजी) के जहाज अमेया पर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने एमटी न्यू डायमंड को बचाने में आईसीजी के प्रयासों की सराहना भी की। भारतीय तटरक्षक बल की ओर से ट्वीट कर कहा गया कि श्रीलंका की नौसेना के कमांडर वाइस एडमिरल निशांथा उलुगेटेने गुरुवार को ट्रिनकोमाली में भारतीय तटरक्षक बल के जहाज अमेया पर पहुंचे। इस दौरान न्यू डायमंड को बचाने में आईसीजी के प्रयासों की सराहना भी की। इसके साथ ही ट्वीट में यह भी कहा गया कि भारतीय तट रक्षक बल श्रीलंका की नौसेना को पर तरह के समुद्र मुद्दों पर सहयोग देने और उन्हें सुलझाने में मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है। इससे पहले भारतीय तटरक्षक बल के डायरेक्टर जनरल के नटराजन ने बुधवार को कहा था कि श्रीलंका के तट पर पिछले हफ्ते श्रीलंका के तट पर इंजन में विस्फोट होने के कारण एक एमटी न्यू डायमंड तेल के टैंकर में आग लग गई थी। अब वह स्थिर हालत में है और जहाज का माल (कार्गो) अभी भी सुरक्षित है। भारतीय तटरक्षक बल के बारे में बात करते हुए नटराजन ने कहा कि हो सकता है कि समुद्री इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि ऐसी दुर्घटना के बाद भी कार्गो सुरक्षित है। नटराजन ने बताया कि 3 सितम्बर को 12.30 बजे वेसल के मास्टर का फोन आया था। वह कह रहा था कि आग लग गई है और मदद की जरूरत है। इसके बाद श्रीलंका के प्रशासन और भारतीय उच्चायोग ने हमसे मदद मांगी और तत्काल हमने अपने दो जहाजों को भेजा, जो 5 बजे तक पहुंचे और मदद की। श्रींलका की नौसेना अगले दिन पहुंची और मदद की। 72 घंटों के बाद आग पर नियंत्रण पा लिया गया और वर्तमान में वेसल स्थिर हालत में है। हिन्दुस्थान समाचार/सुप्रभा सक्सेना-hindusthansamachar.in