पाकिस्तान जब तक पीओके से अपनी सेना वापस नहीं बुलाता, प्रतिरोध जारी रहेगा: सज्जाद राजा
पाकिस्तान जब तक पीओके से अपनी सेना वापस नहीं बुलाता, प्रतिरोध जारी रहेगा: सज्जाद राजा
दुनिया

पाकिस्तान जब तक पीओके से अपनी सेना वापस नहीं बुलाता, प्रतिरोध जारी रहेगा: सज्जाद राजा

news

नई दिल्ली ,18 अक्टूबर,(हि. स.) । गिलगित बालटिस्तान के नेता और कार्यकर्ता सज्जाद राजा ने शनिवार को 22 अक्टूबर 1947 को पाकिस्तान द्वारा जम्मू कश्मीर में किए गए घुसपैठ को फिर से याद किया और कहा कि इस दिन को प्रतिरोध दिवस ( रजिस्टेंस डे) के रूप में मनाया जाना चाहिए। उन्होंने आगे कहा की प्रतिरोध जारी रहेगा जब तक कि पाकिस्तान इस क्षेत्र से अपनी सेना को निका नहीं लेता। उन्होंने 22 अक्टूबर को प्रतिरोध दिवस के रूप में मनाने की मांग की। उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान ने 22 अक्टूबर 1947 को जम्मू कश्मीर में घुसपैठ की थी और उसके एक हिस्से पर क़ब्ज़ा कर लिया थ। यह अवैध क़ब्ज़ा पीके के नाम से जाना जाता है। सज्जाओं ने कहाकि हम और हमारे लोग पाकिस्तान सेना का प्रतिरोध करते रहेंगे जब तक कि पाकिस्तान अपनी सेना और अपने लोगों को जम्मू कश्मीर से निकालने पर मजबूर ना हो जाए। यूरोपियन फाउंडेशन फॉर साउथ एशियन स्टडीज ने हालिया बयान में 22 अक्टूबर को जम्मू कश्मीर के इतिहास में सबसे काला दिवस कहा जिस दिन भारतीय क्षेत्र पर कब्जे के लिए ऑपरेशन गुलमर्ग की शुरुआत की गई थी। यूरोपियन थिंक टैंक के अनुसार आदिवासी घुसपैठ के कारण 35000 से 40000 लोगों की मृत्यु हो गई थी और जम्मू-कश्मीर के किस्मत पर एक काला धब्बा लग गया था।इस योजना को बनाने वाले और इसको क्रियान्वित करने वाले निश्चित रूप से कश्मीरियों के हितैषी नहीं हो सकते। हिन्दुस्थान समाचार/मुरारी कुमार/जितेन्द्र-hindusthansamachar.in