पाकिस्तान की छद्म युद्ध नीति एक बार फिर से उजागर
पाकिस्तान की छद्म युद्ध नीति एक बार फिर से उजागर
दुनिया

पाकिस्तान की छद्म युद्ध नीति एक बार फिर से उजागर

news

काबुल, 16 अक्टूबर (हि.स.)। हेलमंड प्रांत में हुए तालिबानी हमले ने पाकिस्तान की उस छद्म युद्ध नीति काे एक बार फिर से उजागर कर दिया है कि किस तरह वह अफ़गानिस्तान में आतंकवादियों का साथ देता है और साथ-साथ शांति स्थापित करने में मदद करने का नाटक करता है। मीडिया सूत्रों के अनुसार जैश- ए- मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा तालिबान की युद्ध में मदद करते हैं । हेलमंड के प्रांतीय गवर्नर यासीन खान ने कहा कि अफगानिस्तान में अल कायदा, जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा और मध्य एशिया के आतंकवादी ठिकाना बनाए हुए हैं और इन लोगों का तालिबान के साथ सांठगांठ है। अल कायदा, जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा के लड़ाकों को तालिबान ने अफगानिस्तान में सुरक्षित पनाह दे रखी है। ये आतंकवादी संगठन तालिबान लड़ाकों को सेना की ट्रेनिंग और बम बनाने की तरकीब भी सिखा रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/मुरारी कुमार-hindusthansamachar.in