नेपाल में रतो मचिंद्रनाथ यात्रा फीकी, इस साल लोगों में नहीं है उत्साह
नेपाल में रतो मचिंद्रनाथ यात्रा फीकी, इस साल लोगों में नहीं है उत्साह
दुनिया

नेपाल में रतो मचिंद्रनाथ यात्रा फीकी, इस साल लोगों में नहीं है उत्साह

news

काठमांडू, 07 सितम्बर (हि.स.)। नेपाल में कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है और महामारी के कारण इस साल सभी सांस्कृतिक और धार्मिक कार्यक्रमों की रौनक फीकी पड़ गई है। इस साल लोगों में रतो मचिंद्रनाथ यात्रा को लेकर कोई उत्साह नहीं है। दरअसल रतो मचिंद्रनाथ यात्रा नेपाल की प्रमुख रथयात्रा है और बड़े ही उत्साह के साथ मनाई जाती है। नेपाल के ल्यूनर कैलेंडर के अनुसार बचछ्ला पखवाड़े के चौथे दिन नेपाल में रथ यात्रा की शुरुआत होती है। हालांकि कोरोना के कारण लगाए गए सख्त प्रतिबंधों के कारण जल्द से जल्द इसे निपटाने की तैयारी हो रही है। इससे लोग बहुत निराश हैं। इससे पहले गुरुवार को पुलिस और लोगों के बीच झड़प भी हो गई थी। जिसमें कई लोग घायल हो गए थे और कई लोगों को गिरफ्तार भी किया गया था। हालांकि इसके एक दिन बाद क्षमा पूजन का आयोजन हुआ जिसमें 19 विभिन्न विशिष्ट संस्कृति को समूहों ने जल्द से जल्द रथ यात्रा कतरने पर सहमति जताई थी। शुक्रवार को हुए समझौते के अनुसार रतो मचिन्द्रनाथ के रथ को ललितपुर मेट्रोपॉलिटन होटल के सामने सोर्हाखुट्टे फालचा तक लाया गया। भगवान को शहर भर में घुमाने के बाद 11 सितम्बर को बुंगामति में वापस लाया जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार/सुप्रभा सक्सेना-hindusthansamachar.in