बड़ी खबरें

दूर तक गूंज रही है कांठ की आवाज़

दूर तक गूंज रही है कांठ की आवाज़

से जाते समय पहले नया गाँव कासमपुर पड़ेगा। दोनों ही गावों में सवर्ण नहीं हैं। नया गाँव कासमपुर में दो-तीन घर बिजनौरिया चौहान कहे जाने वाले लोगों के हैं। अब देशभर में विख्यात हो चुका वह मंदिर अकबरपुर चैदरी का ही अंग है जो उत्तर-पूरब में गाँव के अंत में स्थित है। मंदिर के आसपास ही सभी दलितों (जाटवों) के घर हैं। इस गाँव में मंदिर के चारों तरफ चार मस्जिद हैं और एक उस मंदिर के ठीक सामने करीब बीस मीटर दूर है। लगभग डेढ़ दशक पहले बने इस मंदिर को लेकर किसी मुस्लिम को कोई आपत्ति नहीं थी। किसी चंचल नाथ नाम के साधू ने उसे बनवाया था और आसानी से बन गया लेकिन लाउड स्पीकर को लेकर विवाद तो काफी पहले
www.swatantraawaz.com
पूरी स्टोरी पढ़ें »

©Copyright Indicus Netlabs 2018. Raftaar ® is a registered trademark of Indicus Netlabs Pvt. Ltd.