हिमाचल में राशनकार्ड उपभोक्ताओं को अप्रैल मिलेगा दो माह का आटा चावल Hindi Latest News 

बड़ी खबरें

हिमाचल में राशनकार्ड उपभोक्ताओं को अप्रैल में मिलेगा दो माह का आटा-चावल

हिमाचल में राशनकार्ड उपभोक्ताओं को अप्रैल में मिलेगा दो माह का आटा-चावल

हिमाचल में राशनकार्ड उपभोक्ताओं को अप्रैल में मिलेगा दो माह का आटा-चावल शिमला, 25 मार्च (हि.स.)। कोरोना वायरस के चलते अप्रैल माह में प्रदेश सरकार सस्ते राशन के डिपुओं में राशन उपभोक्ताओं को दो माह का आटा चावल उपलब्ध करवाएगी। सरकार के इस निणर्य पर डिपो संचालक भी सरकार के साथ है और इस महामारी से निपटने के लिए तैयार

हैं। लेकिन दो माह के एक साथ राशन उठाने को लेकर प्रदेश सहित राजधानी शिमला के शहरी व ग्रामीण डिपुओं के संचालकों को बड़ी समस्या सामने आ सकती है। नियमों के अनुसार डिपुओं में राशन गोदामों से उठाने के लिए सरकारी खातों में पहले डिपो कार्ड होल्डर के अनुसार यानी राशन कार्ड संख्या के तहत पैसा जमा करवाना पड़ता है। इसके बाद ही राशन गोदामों से उठाया जाता है। ऐसे में दो माह के आटा व चावल के पैसा अदा करना कई डिपो संचलाकों के लिए पेरशानी खड़ी कर सकता है और ऐसे में दो माह के राशन लेने के लिए कुछ डिपो भी प्रभावित हो सकते है। जिससे उस क्षेत्र के उपभोक्ताओं केा भी दो माह का राशन मिलने में परेशानी आ सकती है। ऐसे में कई डिपो संचालकों ने इस विषय पर भी सरकार व खाद्य एवं आपूर्ति के विभाग के अधिकारियों को सोच विचार करने का आग्रह किया हैै। राशन स्टोरेज की आएगी समस्या डिपो संचालक सरकार के निर्देशों पर यदि दो माह का चावल व आटा उठाने के लिए यदि कहीं से पैसे का इंतजाम कर भी देते हैं, तो भी डिपो संचालकों की समस्या कम नहीं होगी। डिपो संचालकों को डिपुओं में राशन स्टोरेज को लेकर समस्या सामने आएगी, क्योंकि प्रदेश सहित राजधानी शिमला शहरी व ग्रामीण डिपुओं में एक एक बडे कमरे ही डिपुुओं के हैं जहां पर एक माह का राशन मुशिकल से आता है। ऐेसे दो माह का आटा चावल स्टोरेज करने में समस्या आ सकती हैै। उदहारण के तौर पर एक डिपो में 100 क्विंटल आटा और इतने ही चावल आते हैं तो दो माह के 200 किंवटल आटा चावल कहां रखेंगे। अप्रैल माह में मिलेगा 25 किलो आटा व 12 किलो चावल कोरोना वायरस के चलते अप्रैल माह में राशन उपभोक्ताओं को दो माह का आट-चावल दिया जाएगा। मौजूदा समय में उपभोक्ताओं को प्रति माह साढे बारह किलो आटा और 6 किला चावल प्रतिमाह मिलते र्है। ऐसे में अप्रैल माह में 25 किलो आटा व 12 किलो चावल मिलेंगे। क्या कहते हैं डिपो संचालक व एसोसिएशन शिमला ग्रामीण व शहरी के कई डिपो संचालकों का कहना है कि कोरोना वायरस के साथ जंग लड़ रही प्रदेश सरकार के साथ वह खड़े हैं। लेकिन उन्हें भी परेशानी का सामना करना पडेगा। ग्रामीण क्षेत्रों के डिपो संचालकों के पास अधिक पैसा नहीं होता कि दो माह के आटा चावल के राशन के एडवांस में अदायगी कर सके। सरकार को इसके कुछ छूट दी जानी चाहिए। इस संबध में शिमला शहरी डिपो होल्डर्स एसोसिएशन के प्रधान देवेंद्र चैहान ने कहा कि जो डिपो संचालक आर्थिक तौर से कमजोर है उन्हें परेशानी आ सकती है। वहीं स्टोरेज को लेकर भी परेशानी आ सकती है। ऐसे में सरकार अलग से भी काउंटर खोल सकती है। हिन्दुस्थान समाचार/उज्जवल/सुनील
... क्लिक »

hindusthansamachar.in

अन्य सम्बन्धित समाचार