परों-को-खोल-जमाना-उड़ान-देखता-है-मुनव्वर-राना |Gorakhpur Munnwar Rana Musayra Hindi News Hindustan परों खोल उड़ान मुनव्वर राना Hindi Latest News 


बड़ी खबरें

परों को खोल जमाना उड़ान देखता है: मुनव्वर राना

परों को खोल जमाना उड़ान देखता है: मुनव्वर राना

गैलेंट फाउण्डेशन की ओर से कवि सम्मेलन और मुशायरे का आयोजन गैलेंट हाऊस में रविवार को हुआ। जहां मशहूर शायर मुनव्वर राना ने‘हम सायादार पेड़ जमाने के काम आये जब सूखने लगे तो जलाने के काम आये तलवार की नियाम कभी फेंकना नहीं मुमकिन है जमाने को डराने के काम आये’ से खूब तारीफ बटोरी। इसी क्रम में शायर शकील आजमी ने ‘मैंने देखा है जो मर्दों की तरह रहते थे मसखरे बन गये दरबार में रहने के लिए’ ‘परों को खोल जमाना उड़ान देखता है जमीन पर बैठकर क्या आसमान देखता है संभल के चल तुझे सारा आसमान देखता है’ शबीना अदीब ने ‘मेरी कोशिश तो नफरत को दिलों से दूर करना है मेरा मकसद है दुनिया में मोहब्बत आम
www.livehindustan.com
पूरी स्टोरी पढ़ें »