घोषणाओं में नहीं खेत छिपा है किसानों की समस्याओं का हल Hindi Latest News 

बड़ी खबरें

घोषणाओं में नहीं खेत में छिपा है किसानों की समस्याओं का हल

घोषणाओं में नहीं खेत में छिपा है किसानों की समस्याओं का हल

परंपरागत खेती को प्रोत्साहित किया जाने लगा है। पशुधन को खेती का सहायक व आय बढ़ाने का माध्यम बनाया जाने लगा है। हमारी पुरातन कृषि व्यवस्था में खेती और पशुपालन एक दूसरे के पूरक रहे हैं। आज एक बार फिर पशुपालन को बढ़ावा देने की बात की जा रही है। सवाल साफ साफ यह है कि किसानों की आय बढ़ाने के साथ ... क्लिक »

www.prabhasakshi.com

अन्य सम्बन्धित समाचार