यूपी के पारंपरिक उत्पादों को बढ़ावा देगी कंगना रनौत

 यूपी के पारंपरिक उत्पादों को बढ़ावा देगी कंगना रनौत
kangana-ranaut-to-promote-traditional-products-of-up

लखनऊ, 8 अक्टूबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश सरकार अपनी एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) योजना की ब्रांडिंग को और आगे बढ़ाने की योजना बना रही है। राज्य के सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (एमएसएमई) मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह और अतिरिक्त मुख्य सचिव (एसीएस) नवनीत सहगल ने गुरुवार को लखनऊ में अभिनेत्री कंगना रनौत से मुलाकात कर, तौर-तरीकों पर चर्चा की। कंगना को ओडीओपी योजना का ब्रांड एंबेसडर नामित किया गया है। मंत्री ने कहा कि कंगना ने इस योजना के लिए अपना समर्थन देने का आश्वासन दिया है, जिसे राज्य में पारंपरिक उद्योगों को पुनर्जीवित करने के उद्देश्य से शुरू किया गया था। उन्होंने कहा कि प्रत्येक जिले में विशिष्ट रूप से पहचाने जाने योग्य उत्पादों की पहचान की गई है। कारीगरों को उन्नत उपकरण दिए गए हैं और उनके उत्पादों की आकर्षक पैकेजिंग सुनिश्चित की गई है। इसी के साथ ई-कॉमर्स प्रमुख फ्लिपकार्ट और अमेजॅन के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं ताकि उन्हें विश्व स्तर पर बेचा किया जा सके। उन्होंने कहा कि कारीगरों को बैंकों से जोड़कर उनकी वित्तीय समस्याओं का समाधान किया जा रहा है। एसीएस नवनीत सहगल ने आशा व्यक्त की कि ब्रांड एंबेसडर के रूप में, कंगना रनौत ओडीओपी को नई ऊंचाइयों पर ले जाएंगी और ये उत्पाद अंतत: लोगों की पसंद बन जाएंगे। कंगना ने जवाब दिया कि वह इस साल दिवाली के दौरान अपने परिवार के सदस्यों और दोस्तों को ओडीओपी उत्पाद उपहार में देंगी। उनका विचार है कि ओडीओपी उत्पादों को बढ़ावा देने वाले विज्ञापनों के माध्यम से उपभोक्ता की आकांक्षाओं को पूरा किया जाना चाहिए। मंत्री ने कहा कि हमने अच्छी चर्चा की। मैंने उन्हें सूक्ष्म और लघु उद्योगों के बारे में बताया जो राज्य की ग्रामीण अर्थव्यवस्था को आकार दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह इस योजना को जल्द से जल्द बढ़ावा देने के लिए शूटिंग शुरू करना चाहती हैं। मंत्री ने कहा कि यूपी में ऐसे उत्पाद हैं जो आमतौर पर कहीं और नहीं मिलते हैं, जैसे काला नमक चावल की किस्म। यूपी अद्भुत चीजों से भरा है। इनमें से कई उत्पाद अब जीआई-टैग किए गए हैं, जिसका अर्थ है कि वे यूपी में किसी दिए गए क्षेत्र के लिए विशिष्ट होने के रूप में प्रमाणित हैं। --आईएएनएस एमएसबी/आरजेएस

अन्य खबरें

No stories found.