पा. रंजीत : मैं किसी छोटे या बड़े कलाकार में विश्वास नहीं रखता

 पा. रंजीत : मैं किसी छोटे या बड़े कलाकार में विश्वास नहीं रखता
get-ranjeet-i-don39t-believe-in-any-big-or-small-artist

चेन्नई,24 जुलाई (आईएएनएस)। तमिल फिल्म निमार्ता पा. रंजीत ने कबाली और मद्रास जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्में दी हैं। सुपरस्टार रजनीकांत को दो बार सफलतापूर्वक निर्देशित करने के बाद भी, फिल्म निमार्ता अभी भी सीख रहे है कि दर्शक उससे क्या उम्मीद कर रहे हैं। आईएएनएस के साथ एक साक्षाजिर में, सरपट्टा परंबरई के निर्देशक ने सितारों और ओटीटी रिलीज के साथ काम करने के बारे में बात की। क्या दर्शकों का उत्साह उन पर किसी तरह का दबाव डालता है? उन्होंने कहा, हालांकि मैंने फिल्में बनाई हैं, फिर भी मुझे नहीं पता कि दर्शक मुझसे वास्तव में क्या उम्मीद करते हैं। मुझे लगता है कि मैं फिल्मों में जो बताना चाहता हूं, मैं अपने कलाकारों का उपयोग करके यह बताने की पूरी कोशिश करता हूं। कभी-कभी मैं नहीं कर पाता हूं दर्शकों के साथ जुड़ते हैं लेकिन मैं हमेशा अपने कलाकारों के साथ जुड़ने की पूरी क्षमता का उपयोग करने की पूरी कोशिश करता हूं। मैं किसी छोटे कलाकार या बड़े कलाकारों में विश्वास नहीं करता, क्योंकि मेरे लिए सभी कलाकार समान हैं। दर्शकों को मेरे काम का आनंद लेने और प्यार करने के लिए मुझे जो पसंद है, उसे बताने के लिए पूरी लगन से प्रयास करें। प्रसिद्ध फिल्म निर्माता पहले ही निर्देशन के लिए एक बॉलीवुड फिल्म साइन कर चुके है। वह स्वतंत्रता सेनानी बिरसा मुंडा के जीवन पर एक फिल्म का निर्देशन करेंगे। दक्षिणी फिल्म उद्योग और बॉलीवुड के बीच बढ़ती बातचीत के साथ, रंजीत को लगता है कि दक्षिणी कंटेंट का मूल्य बढ़ गया है। वे कहते हैं ,पहले यह उत्तर और दक्षिण हुआ करता था, लेकिन अब, ऐसा लगता है कि हमने अंतर को पाट दिया है। दक्षिण भारतीय फिल्मों के मूल्य में व्यावसायिक कोण के अलावा फिल्मों कें वैल्यू में भी वृद्धि हुई है। केजीएफ और बाहुबली.. मेरा मानना है कि हमारी सामग्री हमेशा मजबूत और अपरिवर्तित रही है। रंजीत की हालिया रिलीज सरपट्टा परंबरई अमेजन प्राइम वीडियो पर स्ट्रीमिंग कर रही है। मुख्य भूमिका में आर्य अभिनीत फिल्म को ओटीटी दर्शकों से अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है। क्या वह अपनी फिल्म को डिजिटल प्लेटफॉर्म पर रिलीज करने से घबरा रहे थे? वे कहते हैं, मुझे मिली-जुली प्रतिक्रियाएं मिलीं। हालांकि मैं इस बात से परेशान नहीं हूं कि यह ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज हो रही है। मैं वास्तव में खुश हूं कि यह इस डिजिटल संस्करण में रिलीज हो रही है। हमने महसूस किया कि यह बहुत अच्छा होता अगर फिल्म थिएटर में रिलीज होती। --आईएएनएस एनपी/आरएचए

अन्य खबरें

No stories found.