रोहिंग्या का दर्द: “हम चोर तो नहीं फिर क्यों ले जाती है पुलिस?”

रोहिंग्या का दर्द: “हम चोर तो नहीं फिर क्यों ले जाती है  पुलिस?”
रोहिंग्या-का-दर्द-“हम-चोर-तो-नहीं-फिर-क्यों-ले-जाती-है-पुलिस”

15 दिनों के अंदर, कम से कम 10 रोहिंग्या शरणार्थियों को दिल्ली के कंचन कुंज शिविर से पुलिस उठाकर ले गई. पुलिस का दावा है कि उनके पास दस्तावेज नहीं थे और उन्हें FRROs* के पास भेज दिया गया है. दिल्ली के कंचन कुंज में रिफ्यूजी कॉलोनी के निवासियों के क्लिक »-hindi.thequint.com