बर्थडे स्पेशल 18 सितम्बर : पांच बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीत चुकी हैं शबाना आजमी
बर्थडे स्पेशल 18 सितम्बर : पांच बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीत चुकी हैं शबाना आजमी
मनोरंजन

बर्थडे स्पेशल 18 सितम्बर : पांच बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीत चुकी हैं शबाना आजमी

news

मशहूर फिल्म अभिनेत्री और थियेटर कलाकार शबाना आजमी 18 सितंबर को 70 साल की हो जाएंगी। शबाना का जन्म 18 सितंबर, 1950 को हैदराबाद में हुआ था। शबाना के पिता स्वर्गीय कैफी आजमी मशहूर शायर और कवि थे और उनकी मां शौकत आजमी इंडियन थियटर की कलाकार थी। शबाना को अभिनय की प्रतिभा अपनी मां शौकत से विरासत में मिली। शबाना ने अपनी पढ़ाई मुंबई से ही पूरी की। इसके बाद उन्होंने फिल्म एंड टेलिविजन इंस्टिटीयूट ऑफ इंडिया पुणे से एक्टिंग की पढ़ाई की। इसके बाद शबाना अभिनय की दुनिया में अपना करियर बनाने में लग गई। शबाना की पहली फिल्म 'अंकुर 'थी, जो साल 1974 में रिलीज हुई थी। इस फिल्म में शबाना के अभिनय को काफी पसंद किया गया और इस फिल्म में उनके शानदार अभिनय के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार दिया गया। इस फिल्म के साथ ही शबाना आजमी बॉलीवुड में अपनी पहचान बनाने में सफल रही। इस फिल्म के बाद शबाना ने एक के बाद एक कई फिल्मों में बेहतरीन अभिनय किए हैं। शबाना का करियर जब बॉलीवुड में सफलता की बुलंदियों पर था तभी उन्होंने 1984 में मशहूर शायर और गीतकार जावेद अख्तर से शादी कर ली। शबाना आजमी बॉलीवुड की एक मझी हुई अदाकारा हैं, जिन्होंने अपने शानदार अभिनय से दर्शकों के दिलों को जीता। शबाना आजमी को बॉलीवुड की सबसे सक्षम और बोल्ड अभिनेत्रियों में एक माना जाता है। शबाना आजमी अपनी हर फिल्म में खुद को किरदार के अनुसार ढाल लेती हैं। 'मासूम' में जहां उनके अभिनय ने दर्शकों के दिलों को छुआ। वहीं 'गॉडमदर' में उनके अभिनय ने लोगों को हैरत में डाल दिया। दर्शकों ने शबाना को हर किरदार में पसंद किया। शबाना को फिल्मों में उनके अभिनय के लिए अब तक कई पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। उन्हें पांच बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। यह पुरस्कार उन्हें फिल्म अंकुर, अर्थ, कांधार, पार और गॉडमदर के लिए दिया गया है। इसके अलावा शबाना आजमी को फिल्मों में उनके योगदान के लिए भारत सरकार की तरफ से 1988 में 'पद्मश्री' और 2012 में 'पद्म भूषण' सम्मान से सम्मानित किया गया। शबाना आजमी अर्थ, निशांत, अंकुर, स्पर्श, मंडी, अनोखा बंधन, मृत्युदंड, मकड़ी, तहजीब, हनीमून ट्रैवेल्स, जज्बा, नीरजा, द ब्लैक प्रिंस आदि फिल्मों में दमदार भूमिका निभाई है। शबाना फिल्मों और थियेटर के अलावा कई सामाजिक कार्यों से भी जुड़ी हुई है। शबाना आजमी सोशल मीडिया पर भी सक्रिय हैं। हिन्दुस्थान समाचार/सुरभि/मोनिका-hindusthansamachar.in