इंडियन मोशन पिक्चर्स प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन ने कंगना के ऑफिस में तोड़फोड़ को बताया गलत
इंडियन मोशन पिक्चर्स प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन ने कंगना के ऑफिस में तोड़फोड़ को बताया गलत
मनोरंजन

इंडियन मोशन पिक्चर्स प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन ने कंगना के ऑफिस में तोड़फोड़ को बताया गलत

news

अभिनेत्री कंगना रनौत के मुंबई स्थित ऑफिस पर बीएमसी द्वारा तोड़फोड़ की कार्रवाई को कई बॉलीवुड सेलिब्रिटीज ने गलत ठहराया है। अब फिल्म निर्माताओं की संस्था इंडियन मोशन पिक्चर्स प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन (आईएमपीपीए) ने कंगना रनौत को अपना समर्थन दिया है। आईएमपीपीए ने बीएमसी की तोड़फोड़ की कार्रवाई को गलत बताया है। एसोसिएशन के अध्यक्ष टीपी अग्रवाल ने कहा कि ये सभी चीजें न तो सरकार के लिए अच्छी हैं और न ही कंगना रनौत के लिए। महाराष्ट्र सरकार या बीएमसी द्वारा की गई कार्रवाई बिल्कुल गलत है और इसकी निंदा की जानी चाहिए। अग्रवाल ने बीएमसी की कार्रवाई पर सवाल उठाया और कहा कि बीएमसी के कार्यालय को ध्वस्त करने की कार्रवाई से पहले कंगना को जवाब के लिए बुलाया जाना चाहिए था। एसोसिएशन के अध्यक्ष ने आगे कहा कि हालांकि अदालत ने तोड़फोड़ पर रोक लगा दी है, लेकिन बीएमसी पहले ही तोड़फोड़ कर चुकी है। कम से कम उन्हें पहले समय देना चाहिए था। आप उनसे पूछे कि क्या गलत निर्माण है और अगर उन्होंने जवाब दिया होता तो वे उसे तोड़ देते। ऐसा कभी नहीं होता है कि आप एक दिन के इतने कम नोटिस पर किसी संपत्ति को ध्वस्त कर दें। टीपी अग्रवाल के अनुसार कंगना रनौत सम्मानित और आईएमपीपीए की एक अच्छी सदस्य हैं। कंगना एक ऐसी कलाकार हैं जिनके नाम पर चार राष्ट्रीय पुरस्कार हैं। उन्होंने कहा कि कंगना एक अच्छी अदाकारा हैं और वह स्वतंत्र रूप से बोलती हैं। हालांकि सुशांत केस पर कंगना के बात पर एसोसिएशन अध्यक्ष ने असहमति जताई और कहा कि मुझे लगता है कि उसे कुछ बातें नहीं कहनी चाहिए थी और उनमें से एक है नेपोटिज्म। मुझे लगता है कि नेपोटिज्म हर जगह है। फिल्म इंडस्ट्री में इतना नेपोटिज्म नहीं है। अगर समाज में नेपोटिज्म का प्रचलन होता तो कंगना इतनी बड़ी स्टार नहीं होती। उन्होंने कहा कि पूरी इंडस्ट्री ड्रग्स में शामिल है। यदि इस इंडस्ट्री में बहुत सारे लोग ड्रग्स लेते तो फिल्म इंडस्ट्री में मुंबई के ड्रग माफिया का शेयर होना चाहिए। जहां तक मेरा मानना है कि 5-7 प्रतिशत लोग ड्रग्स लेते होंगे और वे हर क्षेत्र में हैं। फिल्म इंडस्ट्री को एक ड्रग एडिक्ट कहकर, आप इंडस्ट्री में आने वाले फंड को रोक रही हैं। अग्रवाल ने आगे कहा कि कंगना का घर अगर गलत ढंग से बनाया गया है तो इसे डिमोलिश करिए, लेकिन सिर्फ कंगना ही क्यों? पूरी मुंबई में जितना अवैध निर्माण है, सबको तोड़िए। बीएमसी ने बुधवार को कंगना रनौत के पाली हिल स्थित ऑफिस में अवैध निर्माण के आरोपों को लेकर तोड़फोड़ की थी। हालांकि बॉम्बे हाईकोर्ट से कंगना को स्टे मिल गया है। उच्च न्यायालय ने उनकी याचिका पर बीएमसी से जवाब मांगा है। जब कंगना रनौत के ऑफिस पर तोड़फोड़ की कार्रवाई हुई तब वह मनाली से मुंबई आ रही थी। हिन्दुस्थान समाचार/मोनिका शेखर-hindusthansamachar.in