दुर्ग : विश्व टीबी दिवस के लिए प्रचार रथ रवाना, मास्क वितरण कर लोगों को करेंगे जागरुक

दुर्ग : विश्व टीबी दिवस के लिए प्रचार रथ रवाना, मास्क वितरण कर लोगों को करेंगे जागरुक
durg-publicity-chariot-for-world-tb-day-departs-people-will-be-made-aware-by-distributing-masks

दुर्ग, 24 मार्च (हि. स.) । जिले में विश्व टीबी दिवस के मौके पर नागरिकों को मास्क का वितरण किया जाएगा। बुधवार को सुबह 8.30 बजे टीबी अस्पताल से मास्क वितरण अभियान का शुभारंभ किया गया। शहर के जनसामान्य लोगों को ट्रैफिक पुलिस, बस, ऑटो सर्विस, स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं व अन्य सहयोगियों को कोरोना व टीबी से बचाव के लिए मास्क का वितरण किया जा रहा है। टीबी दिवस पर जागरुकता के उद्देश्य से आज जिला अस्पताल परिसर से जागरुकता रथ को जिला टीबी अधिकारी डॉ. अनिल कुमार शुक्ला द्वारा हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। आज सभी उपस्वास्थ्य केन्द्रों के हेल्थ एवं वेलनेस सेंटर्स में पदस्थ कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर को टीबी के संबंध में प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता आयोजित करने का भी निर्देश दिया गया है। डॉ. शुक्ला ने बताया, “टीबी यानी टयूबरक्लोसिस बैक्टीरिया से होने वाली बीमारी के बारे में लोगों को जागरुक करना है। इस वर्ष विश्व क्षय रोग दिवस 24 मार्च को एक खास थीम “The Clock is Ticking”(घड़ी चल रही है) पर आधारित है। हर साल विश्व में कितने ही लोग क्षयरोग यानि टीबी की बीमारी की वजह से मर जाते हैं। यह बीमारी महामारी का रूप धारण ना कर ले। सीएमएचओ डॉ गंभीर सिंह ठाकुर के मार्गदर्शन में जिले को टीबी मुक्त बनाने के लिए “ टीबी हारेगा - देश जीतेगा ” अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत जिले के हाई रिस्क एरिया में टीबी के एक्टिव केस खोजे गए। टीबी खोज अभियान के तहत मार्च 2021 में 2.33 लाख से अधिक लोगों की स्क्रीनिंग में 2,383 संभावितों की जांच में 53 नए मरीज खोजे गए थे। टी.बी. को प्रारंभिक अवस्था में ही न रोका जाना आवश्यक अन्यथा इससे व्यक्ति की स्थिति गंभीर भी हो जाती है। किसी भी व्यक्ति में इस बीमारी की शुरुआत धीरे-धीरे होती है लेकिन बाद में यह रोग गंभीर रूप ले लेता है। टी.बी. रोग को अन्य कई नाम से भी जाना जाता है, जैसे तपेदिक, क्षय रोग तथा यक्ष्मा। छत्तीसगढ राज्य को वर्ष 2023 तक टीबी मुक्त और वर्ष 2025 तक भारत से इसका नामोनिशान मिटा देने के लिए सभी को लड़ना होगा”। देश में हर तीन मिनट में दो मरीज क्षयरोग के कारण दम तोड़ देते हैं। हर दिन चालीस हजार लोगों को इसका संक्रमण हो जाता है। हिन्दुस्थान समाचार/अभय जवादे

अन्य खबरें

No stories found.