dhamtari-vegetable-market-closed-in-lockdown-farmers-worried-about-spoiling-vegetables
dhamtari-vegetable-market-closed-in-lockdown-farmers-worried-about-spoiling-vegetables
news

धमतरी : लाकडाउन में सब्जी मंडी बंद, खराब हो रही सब्जियां से किसान चिंतित

news

धमतरी 18 अप्रैल ( हि. स.)। लाॅकडाउन से सब्जी उत्पादक किसानों की चिंता बढ़ गई है। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सब्जी मंडी बंद होने से वे अपने उत्पादित सब्जियों को नहीं बेच पा रहे हैं। बाजार का अभाव बना हुआ है, ऐसे में हर रोज हजारों की सब्जियां खराब होने लगी है, इससे उन्हें भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। पिछले तीन दिनों से जिले के प्रमुख थोक सब्जी मंडी श्यामतराई बंद है। ऐसे में यहां सब्जियों की बोली व खरीद बिक्री पूरी तरह से बंद है। मंडी बंद होने से क्षेत्र के बड़े व छोटे सब्जी उत्पादकों की परेशानी बढ़ गई है। क्योंकि उनकी उत्पादित सब्जियों को थोक में खरीदने वाला कोई नहीं है। छोटे सब्जी उत्पादकों की सब्जियों को लोग चौक व गलियों में खरीद लेते हैं, फिर कुछ सब्जियां बच जाती है। जबकि बड़े सब्जी उत्पादकों की उत्पादित सब्जियों को थोक में खरीदने ग्राहक नहीं है, ऐसे में उनकी सब्जियां भी खराब होने लगी है। सब्जी उत्पादक संदीप कुमार, हिरेंद्र साहू और गिरधर पटेल ने बताया कि लाकडाउन से उनकी परेशानी बढ़ गई है। दो से तीन एवं पांच एकड़ में सब्जी उत्पादित करने वाले सब्जी उत्पादकों की सब्जी नहीं बिक पा रही है। थोक में बेचने बाजार भी नहीं है। थोक मंडी व गांवों में साप्ताहिक बाजार बंद है, ऐसे में वे अपनी उत्पादित सब्जियां कहां बेंचे समझ से परे है। औने पौने दाम में भी खरीदने वाले नहीं है, इसलिए बड़े सब्जी उत्पादकों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। गांव व शहर के चिल्लर बाजार पहुंच रहे बड़े व छोटे सब्जी उत्पादक अपनी उत्पादित सब्जियों को बेचने पिकअप व अन्य वाहनों में लेकर शहर के चिल्लर बाजार और गांव में फेरी लगाकर बेच रहे हैं। औने पौने दाम पर लोग उनके सब्जियों को खरीद रहे हैं, फिर भी सभी सब्जी नहीं बिक पा रही है। 18 अप्रैल को कुछ थोक सब्जी उत्पादक धमतरी शहर के इतवारी बाजार में वाहन पर अपनी सब्जियां लेकर चिल्लर व्यवसायियों को अपनी सब्जियां बेचने पहुंचे। इससे यहां सुबह चिल्लर व्यवसायियों और लोगों की भीड़ लगी रही। हालांकि यह लाकडाउन के नियम विरुद्ध है, लेकिन बड़े सब्जी उत्पादकों की भी मजबूरी है, जिसे देखते हुए निगम प्रशासन और पुलिस प्रशासन ने कार्रवाई नहीं की। वहीं थोक मंडी बंद होने से लोगों को हरी व ताजी सब्जियों की जरूरत है। हिन्दुस्थान समाचार / रोशन