धमतरी : राइसमिलों में औने-पौने दाम पर रबी धान की खरीद, किसानों को भारी नुकसान

धमतरी : राइसमिलों में औने-पौने दाम पर रबी धान की खरीद, किसानों को भारी नुकसान
dhamtari-purchase-of-rabi-paddy-at-a-quarter-to-one-price-in-rice-mills-huge-loss-to-farmers

धमतरी, 07 मई ( हि. स.)। लाॅकडाउन में मंडी बंद होने से किसानों की मुसीबत बढ़ गई है। राइसमिलों में उनके रबी धान की खरीद औने-पौने दाम पर की जा रही है, ऐसे में किसानों को घाटे का सौदा करना पड़ रहा है। नुकसान होने के बाद किसानों को अब मंडी खुलने का इंतजार है, जहां वे संतोषजनक दाम पर अपना धान बेच सके। कोरोना से बचाव व सुरक्षा के लिए जिले में 11 अप्रैल की रात से लागू लाॅकडाउन के बाद से कृषि उपज मंडी श्यामतराई बंद है। लगातार लाॅकडाउन के तीन बार बढ़ने और मंडी नहीं खुल पाने से किसान रबी सीजन में उत्पादित धान को मंडी में नहीं बेच पा रहे हैं। अंचल में धान फसल की कटाई-मिंजाई जोरों पर है। सभी किसानों को धान बिक्री के लिए मंडी खुलने का इंतजार है, लेकिन लाॅकडाउन बढ़ने की वजह से बंद मंडी के कारण बड़े व मंझोले किसान अपना धान सीधे राइसमिलों में बेचने के लिए पहुंच रहे हैं, जहां उनके उत्पादित धान को औने पौने दाम पर मांगा जा रहा है। इससे किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। पिछले साल की तुलना में इस साल रबी धान को 100 रुपये कम दाम पर मांगने से किसानों को घाटे का सौदा करना पड़ रहा है। राइसमिल में धान बेचने वाले किसान गेंदलाल, मुकेश कुमार, हीरा लाल ने बताया कि एक हजार 360 से एक हजार 370 रुपये में प्रति क्विंटल धान की खरीद की जा रही हैं, इससे किसानों को नुकसान उठाना पड़ रहा है। सूखत से भी नुकसान खरीफ सीजन 2020 में राज्य सरकार ने किसानों से 89 उपार्जन केंद्रों में समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी की है। धान खरीदी हुए महीनों पूरे हो गए, लेकिन कई केंद्रों में अभी भी आनलाइन धान बिक्री के बाद केंद्रों से धान का उठाव नहीं हो पाया है। इसी तरह मंडी बंद होने से सभी किसान अपना धान कम दाम को लेकर नहीं बेच रहे हैं। फिलहाल धान को खेत-खलिहान, घरों के आंगन में रखे हुए है, जिसमें सूखत आने की आशंका है। विधायक रंजना साहू, किसान नेता लीलाराम साहू ने किसानों की परेशानी को देखते हुए शासन से शीघ्र कृषि उपज मंडी को खोलकर धान खरीदी शुरू कराने की मांग शासन से की है। प्रभारी मंडी सचिव संजीव वाहिले का कहना है कि किसान मिलरों के पास लाॅकडाउन के चलते अपना धान बेच सकते हैं। मिलर मंडी में सौदा पत्रक प्रस्तुत कर किसानों का धान खरीद सकते हैं। हिन्दुस्थान समाचार / रोशन